Top
undefined

दूसरी तिमाही में बंधन बैंक के मुनाफे में 5% की गिरावट तो HDFC बैंक का मुनाफा 28% गिरकर 2870 करोड़ रुपए रहा

दूसरी तिमाही में बंधन बैंक के मुनाफे में 5% की गिरावट तो HDFC बैंक का मुनाफा 28% गिरकर 2870 करोड़ रुपए रहा
X

नई दिल्ली। प्राइवेट लेंडर बंधन बैंक ने सितंबर तिमाही के नतीजे पेश कर दिए हैं। दूसरी तिमाही में बैंक का मुनाफा 5 फीसदी कम हुआ है। सोमवार को शेयर बाजार को दी गई जानकारी के मुताबिक, बैंक का मुनाफा पिछले साल की दूसरी तिमाही के 972 करोड़ रुपए से घटकर 920 करोड़ रुपए रहा है। हालांकि, बैंक को पिछली तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में 67.3% शुद्ध लाभ बढ़ा है।

बंधन बैंक को सितंबर तिमाही में शुद्ध ब्याज आय (एनआईआई) 25.8% से बढ़कर 1,923.1 करोड़ हो गई। जबकि पिछले वर्ष की इसी तिमाही में यह 1,529.0 करोड़ थी। पिछले साल की दूसरी तिमाही में बैंक की ब्याज आय 1529 करोड़ रुपए रही थी। वहीं बैंक का ग्रॉस एनपीए 1.43 फीसदी से घटकर 1.18 फीसदी रहा है। नेट एनपीए 0.48 फीसदी से घटकर 0.36 फीसदी रहा है।

बैंक ने एक स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा कि कोविड-19 के लिए दूसरी तिमाही में 300 करोड़ रुपए की प्रॉविजनिंग की है। इस प्रावधान और अतिरिक्त स्टैंडर्ड एसेट्स प्रावधान के बदौलत बैंक का कुल अतिरिक्त प्रावधान, 2,096.0 करोड़ है।

दूसरी तिमाही में बैंक का कुल जमा राशि 34.4% बढ़कर 66,127.7 करोड़ हो गई। पिछले साल समान तिमाही की अवधि में यह राशि 49,195.2 करोड़ रुपए थी। वहीं 30 जून 2020 की समाप्त तिमाही में यह राशि 60,610 करोड़ रुपए थी। यानी कि तिमाही दर तिमाही इसमें 9.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

सितंबर तिमाही में HDFC बैंक को 2870 करोड़ का मुनाफा

उधर, सोमवार को ही निजी क्षेत्र में देश के सबसे बड़े बैंक HDFC बैंक ने भी सितंबर 2020 की समाप्त तिमाही के नतीजे पेश कर दिए हैं। बैंक का चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में शुद्ध लाभ 57.5 प्रतिशत घटकर 4,600 करोड़ रुपए रहा। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 10,389 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था।

एचडीएफसी ने बयान में कहा कि तिमाही के दौरान उसकी कुल आय बढ़कर 34,090.45 करोड़ रुपए पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 32,850.89 करोड़ रुपए रही थी। हालांकि, इस तिमाही बाजार द्वारा अनुमानित आय 2,360 करोड़ रुपए रहने की संभावना जताई गई थी।

ग्रास आधार पर तिमाही के दौरान कंपनी का शुद्ध लाभ 28 प्रतिशत घटकर 2,870.12 करोड़ रुपए रह गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 3,961.53 करोड़ रुपए रहा था। एकल आधार पर कंपनी की कुल आय घटकर 11,732.70 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 13,494.12 करोड़ रुपए रही थी।

तिमाही के दौरान एचडीएफसी की शुद्ध ब्याज आय 21 प्रतिशत बढ़कर 3,647 करोड़ रुपए पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 3,021 करोड़ रुपए रही थी। तिमाही के दौरान शुद्ध ब्याज मार्जिन 3.3 प्रतिशत रहा। कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी एनपीए 1.81 प्रतिशत या 8,511 करोड़ रुपए रहीं।

एचडीएफसी ने अगस्त, 2020 में एलिजिबल इंस्टीट्यूशनल प्लानिंग के जरिए 10,000 करोड़ रुपए जुटाए थे। इसके अलावा कंपनी ने वॉरंट जारी कर भी 307 करोड़ रुपए जुटाए थे। वहीं, इंडिविजुअल लोन के अप्रुवल में 9 फीसदी की बढ़त देखी गई है।

फाइजर का शुद्ध लाभ 15 प्रतिशत घटकर 131.37 करोड़ रुपए रहा

दवा कंपनी फाइजर लि. का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही में 14.83 प्रतिशत घटकर 131.37 करोड़ रुपए रह गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 154.25 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। तिमाही के दौरान कंपनी की कुल आय 607.56 करोड़ रुपए रही, जो एक साल पहले समान तिमाही में 611.81 करोड़ रुपए थी। बीएसई में फाइजर का शेयर 0.50 प्रतिशत के नुकसान से 4,960 रुपए पर बंद हुआ।

Next Story
Share it
Top