Top
undefined

6 महीने के उच्च स्तर पर पहुंची रिफाइनरी प्रोसेसिंग, तेल की मांग भी बढ़ी

6 महीने के उच्च स्तर पर पहुंची रिफाइनरी प्रोसेसिंग, तेल की मांग भी बढ़ी
X

नई दिल्ली। अनलॉक के बाद देश में इंडस्ट्रियल और परिवहन गतिविधियों में लगातार सुधार हो रहा रहा। इससे आर्थिक रिकवरी लगातार बढ़ रही है। क्रूड ऑयल प्रोसेसिंग से भी इसका एक और संकेत मिला है। सरकारी डाटा के मुताबिक, देश की रिफाइनरी में क्रूड ऑयल प्रोसेसिंग 6 महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गई है।

सितंबर में रोजाना 4.33 मिलियन बैरल प्रतिदिन क्रूड की रिफाइनिंग

डाटा के मुताबिक, सितंबर में रोजाना 4.33 मिलियन बैरल प्रतिदिन (17.71 मिलियन टन) क्रूड ऑयल की रिफाइनिंग हुई है। अगस्त के मुकाबले इसमें 13.4 फीसदी की ग्रोथ रही है। कोरोनावायरस के कारण प्रतिबंध लगने के बाद पहली बार क्रूड रिफाइनिंग का यह उच्च स्तर है। प्रतिबंध से पहले 5.01 मिलियन बैरल प्रतिदिन रिफाइनिंग हो रही थी।

सितंबर में 20 फीसदी की रिकवरी आई थी

कोरोना के कारण क्रूड ऑयल रिफाइनिंग में अप्रैल 2003 के बाद सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी। डाटा के मुताबिक, सितंबर में क्रूड ऑयल रिफाइनिंग में 20 फीसदी की रिकवरी हुई थी। हालांकि, यह एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले यह 8.7 फीसदी कम थी। सितंबर में रिफाइनरी 86.22 फीसदी क्षमता पर काम कर रही थी, जबकि अगस्त में यह 76.10 फीसदी था।

आईओसीएल की रिफाइनरी 81 फीसदी क्षमता पर पहुंची

डाटा के मुताबिक, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) की रिफाइनरी 81 फीसदी क्षमता पर पहुंच गई हैं। वहीं सबसे बड़ी रिफाइनरी वाली कंपनी रिलायंस की रिफाइनिंग क्षमता 89.37 फीसदी पर पहुंच गई है। क्रूड ऑयल प्रोडक्शन 6 फीसदी की गिरावट के साथ 2.49 मिलियन टन रहा है।

जून से लगातार बढ़ रही तेल की मांग

डाटा के मुताबिक, देश में जून के बाद तेल की मांग लगातार बढ़ रही है। प्रारंभिक डाटा के मुताबिक, मार्च के बाद पहली बार पेट्रोल की बिक्री बढ़ी है। इससे संकेत मिलता है कि त्योहारों से पहले इंडस्ट्रियल गतिविधियों ने रफ्तार पकड़ी है।

Next Story
Share it
Top