Top
undefined

रायपुर: बंद मकान में मिली युवती की सड़ी-गली लाश, प्रेमी ने उकसाया था छात्रा को आत्महत्या के लिए

16 फरवरी को मिला था युवती का शव, 6 जनवरी को छात्रा ने की थी खुदकुशी, युवक ने रस्सी काटकर शव उतारा और दूसरे कमरे में फंदा बनाया

रायपुर: बंद मकान में मिली युवती की सड़ी-गली लाश, प्रेमी ने उकसाया था छात्रा को आत्महत्या के लिए
X

रायपुर. राजधानी रायपुर के बोरियाकला हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में युवती की सड़ी-गली लाश मिलने की गुत्थी को पुलिस ने शुक्रवार को सुलझा लिया है। पुलिस ने इस मामले में छात्रा के लिव-इन पार्टनर वीरेंद्र पाटेल को गिरफ्तार किया है। वीरेंद्र पर आरोप है कि उसने छात्रा को आत्महत्या के लिए उकसाया और साक्ष्य छिपाने का प्रयास किया। छात्रा और आरोपी दोनों चार साल पहले रावतपुरा कॉलेज में पढ़ते थे। घटना मुजगहन थाना क्षेत्र की है।

जानकारी के मुताबिक, बोरियाकला स्थित हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के एक बंद मकान में 16 फरवरी को युवती का शव सड़ी-गली हालत में मिला था। तफ्तीश के दौरान युवती की शिनाख्त सरगुजा निवासी पबीना बडा के रूप में हुई। साथ ही यह भी पता चला था कि वह सारंगगढ़ गुढ़ियारी निवासी वीरेंद्र पटेल के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहती थी। वीरेंद्र ने प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी की बात कहकर मकान किराए पर लिया था।

मकान मालिक दूसरे किरायेदार को मकान दिखाने ले गया तो खुला मामला

मकान मालिक दो माह से वीरेंद्र को कॉल कर रहा था, लेकिन कोई बात नहीं हो पा रही थी। इस पर वह दूसरे किरायेदार को मकान दिखाने के लिए 16 फरवरी को लेकर आया था। घर पर ताला लगा था और अंदर से काफी बदबू आ रही थी। इस पर वह ताला तोड़कर अंदर गया तो युवती का शव पड़ा हुआ था। सूचना पर पुलिस पहुंची तो दो फांसी के फंदे अलग-अलग कमरे में मिले। एक फंदा कटा हुआ था और एक वैसा ही मिला।

घर से मिलने बंद हो गए थे पैसे इसलिए दोनों के बीच होने लगे झगड़े

मुजगहन थाना प्रभारी आरएन पांडेय ने बताया कि पबीना और वीरेंद्र पटेल लंबे समय से लिव-इन में रह रहे थे। चार माह पहले ही घटना वाले मकान में शिफ्ट हुए थे। पबीना अपने घर से पैसा मंगाती थी। करीब 25 लाख रुपए वह अपने घर वालों से मांग चुकी थी। करीब 6 माह पहले युवती के माता-पिता आए तो उन्हें पता चला कि पैसे पढ़ाई के लिए मंगाए ही नहीं जा रहे थे। इस पर उन्होंने पबीना से साथ चलने को कहा, लेकिन उसने इनकार कर दिया।

इस पर परिवार वालों ने पैसे देने बंद कर दिए। आर्थिक तंगी के चलते पबीना और वीरेंद्र में झगड़े शुरू हो गए। कई लोगों से कर्जा भी लिया। इसी के चलते 6 जनवरी को भी दोनों का झगड़ा हुआ और वीरेंद्र बाहर से दरवाजे में ताला लगाकर चला गया। रात करीब 11 बजे लौटा तो पबीना का शव फंदे से लटका हुआ था। इस पर उसने चाकू से रस्सी काटकर शव को नीचे उतारा और साक्ष्य छिपाने के लिए दूसरे कमरे में फंदा पंखे में फंसा दिया। इसके बाद वहां से भाग निकला।

Next Story
Share it
Top