Top
undefined
Breaking

सोपोर में आतंकवादियों हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवान को दी गई श्रद्धांजलि

जम्मू कश्मीर के सोपोर में एक मस्जिद में छिपे आतंकवादियों ने सीआरपीएफ के एक गश्ती दल पर गोलीबारी की जिसमें एक जवान शहीद जबकि एक आम नागरिक मारा गया।

सोपोर में आतंकवादियों हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवान को दी गई श्रद्धांजलि

जम्मू-कश्मीर: सोपोर में आतंकवादियों हमले में मारे गए सीआरपीएफ जवान को श्रद्धांजलि दी गई। कल सोपोर में ष्टक्रक्कस्न की टीम पर आतंकवादियों ने गोलीबारी की। इस हमले मेंसी आरपीएफ के 1 जवान शहीद और 3 जवान घायल हो गए। शहीद जवान दीपचंद वर्मा राजस्थान के सीकर के रहने वाले थे। उनकी शहादत के बाद से गांव में मातम पसरा हुआ है। सुरक्षा बलों ने आतंकियों की तरफ से गोलियों की बौछार के बीच मारे गए आम नागरिक के तीन साल के पोते को बचा लिया। इस घटना का हृदय विदारक वीडियो और फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। अधिकारियों ने घटना के बारे में बताया कि जब लोग हमले के बाद जान बचाने के लिये वहां से भाग रहे थे तभी अपने पोते के साथ कार में सफर कर रहे 60 वर्षीय बशीर खान अपनी कार छोड़ जान बचाने के लिये भागे, लेकिन वो मारे गए। जिसके बाद बच्चा दादा के शव के पास रोने लगा। जब सीआरपीएफ कर्मियों ने बच्चे को अपने दादा के शव के पास रोते हुए देखा तो उनमें से एक उसे बचाने के लिये आगे बढ़ा जबकि उसके साथियों ने उसे सुरक्षा प्रदान करने के लिये कवर फायर दिया। बच्चे को बचाने वाले सुरक्षाकर्मी पवन कुमार चौबे की जमकर तारीफ हो रही है। सुरक्षा बलों द्वारा बचाए गए बच्चे की तस्वीर अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर डालते हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने लिखा, "सोपोर में आतंकी हमले के दौरान मुठभेड़ में एक तीन साल के बच्चे को गोली लगने से बचाया गया।" इससे पहले दक्षिण कश्मीर के बिजबेहरा में हुए सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमला हुआ था। इस हमले में कुलगाम के यारीपोरा के एक मासूम की भी जान चली गई।

इस साल अब तक सुरक्षाबलों ने 110 से अधिक आतंकियों को मार गिराया

बता दें कि जम्मू कश्मीर में जारी आतंकी विरोधी अभियानों में इस साल अब तक सुरक्षाबलों ने 110 से अधिक आतंकियों को मार गिराया है। पिछले करीब बीस दिनों में सुरक्षाबलों ने करीब 36 आतंकियों को ढेर किया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि ये आतंकवादी लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़े थे। वे अब हताश हो कर निर्दोष लोगों को अपना निशाना बना रहे हैं।

Next Story
Share it
Top