Top
undefined

रामविलास पासवान के निधन से खाली राज्यसभा सीट पर दावेदारी को लेकर असमंजस

रामविलास पासवान के निधन से खाली राज्यसभा सीट पर दावेदारी को लेकर असमंजस
X

पटना। केंद्रीय मंत्री और लोजपा नेता रामविलास पासवान के निधन से बिहार से राज्यसभा की खाली हुई सीट पर दावेदारी को लेकर असमंजस बना है। केंद्र में भाजपा और लोक जनशक्ति पार्टी यानी लोजपा का गठबंधन है लेकिन बिहार में जदयू-भाजपा गठबंधन का लोजपा हिस्सा नहीं है। विधानसभा चुनाव में लोजपा ने जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ा। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि इस बार राज्यसभा की यह सीट किसके खाते में जाएगी।

इस सीट के लिए 14 दिसंबर को कराया जाएगा चुनाव

इस सीट पर चुनाव 14 दिसंबर को कराया जाएगा। पासवान भाजपा और जदयू के सहयोग से 2019 में निर्विरोध चुने गए थे। इस सीट का कार्यकाल 2 अप्रैल 2024 तक है। विधानसभा चुनाव में लोजपा के चलते जदयू को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। वहीं, लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान के बयानों से जदयू में नाराजगी भी है। ऐसे में लोजपा को यह सीट देने के लिए भाजपा को जदयू प्रमुख नीतीश कुमार को मनाना आसान नहीं होगा।

Next Story
Share it
Top