Top
undefined

स्वामित्व योजना ग्रामीण भारत के लिए एक सौगात -मेरी संपत्ति मेरा हक

स्वामित्व योजना ग्रामीण भारत के लिए एक सौगात -मेरी संपत्ति मेरा हक
X

प्रोफेसर विवेक सिंह

स्वामित्व योजना के शुभारंभ की तारीख देश के दो महापुरुषों, नानाजी देशमुख और लोकनायक जयप्रकाश नारायण के जन्म जयंती के दिन को चुना गया है। नानाजी देशमुख और जयप्रकाश नारायण ने आजीवन ग्रामीण भारत के उत्थान के लिए अथक प्रयास किया। स्वामित्व योजना ग्रामीण भारत के लिए एक क्रांतिकारी योजना है। स्वामित्व योजना की घोषणा 24 अप्रैल 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के मौके पर किया गया था। भू-संपत्ति मालिकों को स्वामित्व योजना के अंतर्गत संपत्ति कार्ड वितरित किया जाएगा। फिलहाल देश के 1 लाख से अधिक भूमि मालिकों को एसएमएस से लिंक मिलेगा जिससे वे अपने संपत्ति कार्ड को डाउनलोड कर पाएंगे। भूमि पैमाइश की व्यवस्था अकबर के समय से है। लेकिन आवासीय संपत्ति को लेकर ग्रामीणों के पास आज भी कोई कानूनी दस्तावेज नहीं है। स्वामित्व योजना के तहत प्रॉपर्टी कार्ड मिलने से ग्रामीणों को बैंकों से आसानी से कर्ज मिल सकेगा। ग्रामीण मकानों की कीमतों में वृद्धि होगी। भूमि एवं आवासीय संपत्ति का वित्तीय संपत्ति के रूप में इस्तेमाल करना अब संभव होगा।

पायलट प्रोजेक्ट के तहत स्वामित्व योजना के लिए 6 राज्यों के चुना गया था। चयनित गांवों में सर्वेक्षण का कार्य पूरा हो चुका है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, कर्नाटक के 763 गांवों को इस कार्य के लिए चिन्हित किया गया था। चरणबद्ध तरीके से 2024 तक 6,42,000 गांवों के ग्रामीणों को स्वामित्व कार्ड वितरित किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। स्वामित्व योजना को भली-भांति समझने के लिए महत्वपूर्ण बिंदुओं पर प्रकाश डाला गया है।

24 अप्रैल 2020 को हुआ था ऐलान : स्वामित्व योजना का विधिवत ऐलान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 24 अप्रैल 2020 को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर किया गया था। इस योजना का प्रमुख उद्देश्य देश के करोड़ों ग्रामीणों को उनकी भू-संपत्ति एवं आवासीय संपत्ति स्वामित्व को स्थापित करने के लिए प्रॉपर्टी कार्ड वितरित करना है।

11 अक्टूबर को ही शुभारंभ के पीछे की वजह : 11 अक्टूबर का दिन भारत खासकर ग्रामीण भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन है। ग्रामीण भारत के विकास के लिए दो महापुरुषों का योगदान अतुलनीय है। नानाजी देशमुख और लोकनायक जयप्रकाश नारायण, दोनों महापुरुषों का जन्म 11 अक्टूबर का हुआ था। इसी कारण 11 अक्टूबर को स्वामित्व योजना के शुभारंभ की तारीख निश्चित की गई।

स्वामित्व योजना केंद्र सरकार की योजना : यह जानना नितांत आवश्यक है कि स्वामित्व योजना जिसके तहत ग्रामीणों को प्रॉपर्टी कार्ड वितरित किए जाएंगे, यह केंद्र सरकार के पंचायती राज मंत्रालय की योजना है। समस्त प्रदेशों के राजस्व विभाग या लैंड रिकॉर्ड डिपार्टमेंट इसमें पंचायती राज मंत्रालय को सहयोग करेंगे। तकनीकी एवं पैमाइश सहयोग के लिए सर्वे ऑफ इंडिया को इस कार्य से जोड़ा गया है।

सर्वे के लिए ड्रोन का इस्तेमाल : स्वामित्व योजना के अंतर्गत सर्वे कार्य को व्यवस्थित, कुशलतापूर्वक शीघ्र संपन्न करने के लिए ड्रोन एवं अन्य आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल किया गया है। कुछ महीनों में 1,32,000 ग्रामीण परिवारों के भूमि एवं भवन के सर्वे का कार्य सफलतापूर्वक संपन्न किया गया है। आने वाले 4 वर्षों में देश के सभी 6,42,000 गांवों के भूमि एवं आवासीय संपत्तियों का सर्वे किया जाएगा।

Next Story
Share it
Top