Top
undefined

जिनके बिना आज का भारत न होता

31 अक्टूबर: लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती

जिनके बिना आज का भारत न होता
X

राजेश बादल

भारत की आजादी के आंदोलन में 1942 का साल सबसे महत्वपूर्ण है। दरअसल इसी आंदोलन ने सुनिश्चित कर दिया था कि हिन्दुस्तान अब गुलामी की जंजीरों को तोडऩे की स्थिति में आ गया है। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के आह्वान पर छेड़े गए अग्रेजों ! भारत छोड़ो आंदोलन में अनेक राष्ट्रभक्तों ने अपने-अपने ढंग से इस पवित्र यज्ञ में अपनी आहुति दी थी। इनमें सरदार वल्लभ भाई पटेल ऐसा नाम है,जिसने गोरी हुकूमत को अपने तेवरों से संकट में डाल रखा था। उनके मजबूत इरादों से बरतानवी सत्ता के आला अफसर घबराते थे। इस कारण महात्मा गाँधी को तो दो साल में ही जेल से छोड़ दिया गया था, मगर सरदार पटेल को उनके लगभग एक बरस बाद जून 1945 में रिहा किया गया था। उनके कारागार प्रवास के दरम्यान एक अंग्रेज न्यायाधीश विकेन्डेन ने सरदार पटेल के बारे में लिखा था - बेहद खतरनाक, एंटी $फासिस्ट और ब्रिटिश शासन का घोर विरोधी व्यक्ति । जब सरदार पटेल जेल से छूटे तो और सक्रिय हो गए। वे दो गुने उत्साह से आजादी के लिए जुट गए। एक सभा में उन्होंने ऐलान किया, 'मैं आजादी चाहता हूँ और मैं जानता हूँ कि मैं इसे प्राप्त करने जा रहा हूँ। ऐसे दस इंग्लैंड भारत को आजादी पाने से रोक नहीं सकते। किसी भी देश को हमेशा के लिए गुलाम बनाकर नहीं रखा जा सकता।

जाहिर है सत्तर साल का यह बूढ़ा शेर गोरी सरकार के लिए महात्मा गांधी से कम खतरनाक नहीं था। उसके सीधे सपाट तर्कों से स्वतंत्रता विरोधी घबराते थे। हालाँकि उन्नीस सौ छियालीस का साल आते-आते बरतानवी सरकार के पाँव उखडऩे लगे थे और हिन्दुस्तान में आजादी की खुशबू आने लगी थी। लेकिन जाते-जाते अँगरेज अपनी चालबाजी से बाज नहीं आ रहे थे। वे मजहब के आधार पर मुल्क को बांट देना चाहते थे। वे भारतीय उपमहाद्वीप को हमेशा के लिए एक सिरदर्द देकर जाना चाहते थे। महात्मा गांधी और उनके अनुयाई इस साजिश को भाँप चुके थे इसलिए उनकी कोशिश थी कि किसी तरह पहले गोरे इस राष्ट्र से दफा हो जाएँ। फिर हिन्दुस्तान के लोग आपस में बैठ कर अपने झगड़े सुलझा लेंगे। लेकिन अफसोस ! मुस्लिम लीग इसके लिए तैयार नहीं थी। उसे आजादी से पहले अपने लिए अलग मुल्क चाहिए था। उसके मुखिया मोहम्मद अली जिन्ना को मनाने का बहुत प्रयास किया गया। मगर सारे प्रयास नाकाम रहे। एक अवसर पर तो सरदार पटेल ने जिन्ना से साफ साफ कहा, 'इस रास्ते को छोडि़ए। प्रेम से बहुत कुछ किया जा सकता है , किन्तु अपने हाथों में पिस्टल थामकर कुछ नहीं हो सकता। आप अपना उद्देश्य धमकाकर नहीं प्राप्त कर सकते। यदि आप अब भी स्वतंत्रता के इच्छुक हैं तो आइए। दो भाइयों की तरह साथ-साथ बैठिए तथा एक समझौते पर पहुँचिए अथवा हम अपने मतभेदों को मध्यस्थ निर्णय के लिए प्रस्तुत करें और पंच फैसले को स्वीकार करें। हमारे साथ बैठिए और मिलकर आजादी लीजिए । इसी तरह एक अन्य अवसर पर उन्होंने मुस्लिम लीग के नेतृत्व से फिर कहा , 'साम्प्रदायिक समस्या का समाधान भारत में और भारतीयों के द्वारा ही होगा। इस क्षेत्र में अँगरेजों का कोई स्थान नहीं है और जितनी जल्दी वे देश छोड़ दें ,उतना ही सभी के लिए अच्छा होगा। हम लोग स्वतंत्रता प्राप्त करने के बेहद करीब हैं। अब यह हम पर है कि इसे ग्रहण करें या फेंक दें। लेकिन मुस्लिम लीग ने सरदार पटेल की अपील पर ध्यान नहीं दिया। ब्रिटिश सरकार परदे के पीछे से मोहम्मद अली जिन्ना को कूटनीतिक मदद कर रही थी। वह उन्हें पाकिस्तान देने का वादा कर चुकी थी। अलबत्ता उजागर तौर पर वे मुस्लिम लीग को मनाने का प्रयास करते रहे। सरदार पटेल इससे आहत थे। उन्होंने 15 दिसंबर 1946 को स्टेफोर्ड क्रिप्स को एक तीखा खत लिखा था। इसमें उन्होंने गोरी हुकूमत की ईमानदारी पर अनेक सवाल उठाए थे। आखिरकार 20 फरवरी 1947 को इंग्लैंड के प्रधानमंत्री एटली ने इस मुल्क को बाँटने का ऐलान कर दिया। गांधी जी और मौलाना आजाद आखिरी पल तक विरोध करते रहे। लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। सरदार पटेल हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक बनकर उभरे इससे पहले 15 जनवरी 1947 को वे अपने एक भाषण में कह चुके थे, 'यदि हम वास्तविक स्वराज चाहते हैं तो हिन्दुओं और मुसलमानों को एक होना पड़ेगा। इसमें संदेह नहीं कि अँगरेज जा रहे हैं। लेकिन चर्चिल जैसे लोग अभी भी भारत पर राज करने का सपना देख रहे हैं। वे सोने का अंडा देने वाली मुर्गी को नहीं छोडऩा चाहते इसलिए मुसलमानों और दलितों को उकसा रहे हैं। परन्तु यह खेल ज्यादा दिन नहीं चलेगा। वे चाहें या न चाहें, उन्हें जाना ही है।

इसके बाद देश के कलेजे पर बँटवारे की छुरी चल गई। रेडक्लिफ ने किसी कपड़े की तरह हिन्दुस्तान को चीर दिया। दुखी सरदार पटेल ने इस विभाजन के बाद अपने को भारत के लिए नए सपने के साथ समर्पित कर दिया। वे पाकिस्तान में हिंदुओं, सिखों और अन्य अल्पसंख्यकों के साथ हो रहे जुल्मों से गुस्से में थे। उन्होंने वहाँ की लियातत अली खान सरकार को इस बात के लिए फटकार लगाईं थी। वे एक साथ अनेक मोर्चों पर अकेले योद्धा की तरह लड़ रहे थे। एक तरफ पाकिस्तान से आने वालों का बंदोबस्त, दूसरी तरफ दंगों पर नियंत्रण पाना और तीसरा सबसे बड़ा काम था बँटवारे के बाद शेष भारत को एक सूत्र में बांधना। तीनों ही मोर्चों पर उन्होंने प्रभावशाली काम किया। स्वयं प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू भी यह देखकर दंग थे। सरदार पटेल विभाजन के लिए जिम्मेदारी स्पष्ट तौर पर लेते रहे। सरदार ने 11 अगस्त 1947 को कहा 'यह सत्य है कि विभाजन के लिए सहमति दी। हम लोगों ने यह जिम्मेदारी अच्छी तरह सोचने समझने के बाद ली है न कि किसी भय या दबाव के कारण।मैं भारत के विभाजन का प्रबल विरोधी था। किन्तु जब मैं केंद्र सरकार में बैठा तो मैंने देखा कि एक चपरासी से लेकर बड़े अधिकारियों तक सभी साम्प्रदायिक घृणा से ग्रस्त हैं। इन स्थितियों में लडऩे और तीसरी पार्टी के हस्तक्षेप को बर्दाश्त करने से बेहतर है कि देश की एकता बनाए रखने के लिए बँटवारा हो ही जाए। देश में शांति रहनी चाहिए। केवल शांति ही हमें बचा सकती है। आज हमारे पास भारत को संयुक्त करने का एक अवसर है। लाहौर और पूर्वी बंगाल के कुछ हिस्सों को छोड़कर एक हजार वर्षों के बाद सम्पूर्ण भारत को संयुक्त करने का अब हमारे पास एक सुनहरा अवसर है। इसके बाद 16 जनवरी,1948 को बंबई ( उन दिनों मुंबई को बंबई कहते थे) में एक समारोह में सरदार पटेल ने इस तथ्य को दोहराया कि वक्त ने हिन्दुस्तान को एकता का स्वर्णिम अवसर दिया है। उन्होंने कहा कि भारत पिछली कई शताब्दियों में कभी भी इतना संगठित और ताकतवर नहीं था, जितना आज है।

सरदार पटेल के इस संकल्प के पीछे उनका मजबूत इरादा ही था। वे जानते थे कि उन्हें शेष हिन्दुस्तान की एकता के लिए बहुत कड़ा और सख्त रवैया अख्तियार करना पड़ेगा। उनके व्यक्तित्व की इसी खासियत के कारण उन्हें लौह पुरुष कहा जाने लगा था। उन्होंने आजादी के चार दिन पहले ही अपने फौलादी इरादे का संकल्प कर दिया था। उन्होंने एक भाषण में कहा, 'मैं छोटे और बड़े राजाओं से कहता हूँ कि जब समय आएगा तो उन्हें 15 तारीख तक भारतीय संघ में शामिल होना होगा। उसके बाद उनके साथ दूसरी तरह से व्यवहार किया जाएगा। जो रियायतें उन्हें आज दी जा रही हैं, उस तिथि के बाद नहीं दी जाएंगीं। इसलिए वे यदि शासन करना चाहते हैं तो उन्हें संविलियन पर हस्ताक्षर करना होगा। आज संसार में अकेले रहना मुश्किल है। जब आंधी आती है अकेला पेड़ जमीन पर गिर जाता है किंतु कतार में खड़े पेड़ बच जाते हैं। वे रामचंद्र और अशोक के वंशज हैं, फिर भी उन्हें आज मामूली से मामूली अँगरेज नौकर को सलाम करना पड़ता है। वे अभी यह मानने को तैयार नहीं हैं कि 15 अगस्त को अँगरेज चले जाएँगे, परन्तु जब वे चले जाएँगे और आप स्वाधीनता की बयार का अनुभव करेंगे, तब आपके दिलों के द्वार खुल जाएँगे।

सरदार पटेल के इन बयानों से स्पष्ट हो जाता है कि वे भारत की एकता के लिए कितने गंभीर थे। राजे - रजवाड़ों से उनका अनुरोध कागजी नहीं था। वे एक ठोस कार्ययोजना के आधार पर ही आगे बढ़ रहे थे। उस दौर के बिखरे हिन्दुस्तान को तिरंगे तले लाना अगर सरदार पटेल के लिए कठिन नहीं था तो कोई बहुत आसान भी नहीं था। उस समय भारत की करीब चालीस फीसदी जमीन 56 रियासतों के अधीन थी और उन्हें अभी तक अँगरेजों से अनेक मामलों में स्वायत्तता और विशेष अधिकार हासिल थे। इसलिए कई बड़ी रियासतें तो भारत और पाकिस्तान से अलग होकर अपनी अलग दुनिया बसाने का ख्वाब देखने लगी थीं। कुछ ने तो बाकायदा ऐलान कर दिया था कि 15 अगस्त के बाद वे न भारत का हिस्सा होंगे और न ही पाकिस्तान का। वे स्वतंत्र संप्रभु अस्तित्व वाले राज्य होंगे। जाहिर है भारतीय स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े नायकों को यह स्थिति किसी भी सूरत में मंजूर नहीं हो सकती थी। इसके पीछे एक ठोस और सुविचारित लोकतंत्र की अवधारणा थी। गांधी जी समेत उनके सारे अनुयाई यह मानते थे कि किसी भी आजाद देश में असल सत्ता जनता के हाथ में होनी चाहिए न कि किसी केंद्रीय निरंकुश शक्ति के पास। इसी आधार पर पर सरदार पटेल अपने अपने स्वप्न लोक में विचरण करने वाले राजा - महाराजाओं के प्रति बेहद कठोर रवैया अपना रहे थे। इस कारण अधिकांश रियासतों ने भारत में विलय के लिए अपनी सहमति दे दी। कई रियासतें तटस्थ होकर चुपचाप समय की चाल पर नजर रख रही थीं। लेकिन तीन चार रियासतें ऐसी भी थीं, जो स्वतंत्र अस्तित्व के लिए अड़ी हुई थीं। इनमें त्रावणकोर, हैदराबाद और भोपाल जैसी कुछ रियासतें शामिल थीं। जब सरदार पटेल ने नवगठित रियासत विभाग की जिम्मेदारी संभाली तो उन्होंने अपनी विभागीय बैठक में साफ कहा कि इस परिस्थिति में खतरनाक संभावनाएं छिपी हुई हैं। यदि इन पर शीघ्र ही काबू नहीं पाया गया तो बड़ी कठिनाई से मिली आजादी इन रजवाड़ों के दरवाजे से निकलकर गायब भी हो सकती है। इसके लिए उन्होंने सारे प्रशासनिक, कूटनीतिक और आक्रामक तरीके अपनाने में संकोच नहीं किया। विनम्रता से सरदार पटेल ने विलय का सन्देश दिया। उनकी रियासतों के विदेश, रक्षा और संचार जैसे मामले भारत सरकार के नियंत्रण में रखने के लिए उन्हें तैयार किया। दूसरी तरफ इन रियासतों में व्यापक जन आन्दोलनों के प्रति भी सरदार पटेल ने नरमी दिखाई, जो लंबे समय तक गोरी सत्ता से लडऩे के बाद राजशाही से मुक्ति पाने के लिए आंदोलन पर उतर आई थीं। इससे राजाओं को अपनी प्रजा के इस गुस्से का मुकाबला करना असंभव हो गया। उनके हाथ पाँव फूल गए। आजादी के दिन तक केवल जूनागढ़, जम्मू -कश्मीर और हैदराबाद रियासतों ने अपनी जिद नहीं छोड़ी थी। मगर अगले डेढ़ साल में उन्होंने भी सरदार पटेल का कोप भाजन बनने से बेहतर आत्मसमर्पण करना बेहतर समझा। जूनागढ़ के नवाब ने तो बाकायदा अपनी रियासत का पाकिस्तान में विलय करने की घोषणा कर दी। पर जनता भड़क उठी। इसके बाद जनमत संग्रह कराया गया। जाहिर था कि यह भारत के पक्ष में गया। इसके बाद भारतीय सेना जूनागढ़ में प्रवेश कर गई। नवाब पाकिस्तान भाग गया। इसी तरह हैदराबाद का निजाम भी आ?ाद रियासत के रूप में रहना चाहता था। एक तरफ वह भारत सरकार के साथ संधि वार्ता का नाटक करता रहा, दूसरी ओर अपनी सैनिक क्षमता बढ़ाने की साजिश भी रचता रहा। वह चुपचाप हथियार आयात कर रहा था। उसे अपने कुछ गोरे -संपर्कों से बड़ी उम्मीद थी। मगर सरदार पटेल ने उसे भी फुस्स कर दिया। सरदार पटेल उसकी किसी भी चाल में नहीं आए। आखिरकार सितंबर 1948 में भारतीय सेना को हैदराबाद में प्रवेश करना पड़ा। तीन दिन तक घेराबंदी और संघर्ष के बाद निजाम ने भी सरदार पटेल के आगे घुटने टेक दिए। सरदार पटेल की यह बहुत बड़ी कामयाबी थी। इसके बाद तो चंद छोटी रियासतें ही शेष थीं। सरदार पटेल की भृकुटि तनी और वे भी भारत का अभिन्न हिस्सा बन गई। जम्मू - कश्मीर के महाराजा हरिसिंह ने भी तय किया था कि उनका राज्य न भारत में शामिल होगा और न पाकिस्तान में। लेकिन इसी बीच 22 अक्टूबर 1947 को पाकिस्तानी सेना ने कबाइली वेश में कश्मीर पर हमला बोल दिया। अँगरेजों से प्रशिक्षित सेना के आगे महाराजा के सिपाही टिक न सके और तब 24 अक्टूबर को हरिसिंह ने भारत से मदद माँगी। मगर अंतर्राष्ट्रीय कानूनों के तहत भारत तभी कश्मीर में अपनी सेना भेज सकता था , जब उसका विलय भारत में हो चुका हो। सरदार पटेल ने इस मामले में कड़क रुख अपनाया और 26 अक्टूबर को कश्मीर का भारत में विलय हो गया। अगले ही दिन सौ हवाई जहाजों से भारतीय सेना कश्मीर जा पहुँची। पाकिस्तानी फौज के पाँव उखड़ गए। वह भाग खड़ी हुई। लेकिन कुछ इलाके फिर भी उसके कब्जे में रह गए। क्योंकि भारत ने संयुक्तराष्ट्र का सम्मान करते हुए इस मामले को वहाँ ले जाने का फैसला किया। यह एक भूल थी। दो महीने संयुक्त राष्ट्र ने एक तरह से पाकिस्तान के पक्ष को माना। इसके बाद 31 दिसंबर 1948 को युद्ध विराम लागू हुआ। तबसे आज तक यह अनसुलझा मुद्दा है। सरदार पटेल अगर कुछ बरस और जीवित रहते, तो संभवतया इस समस्या का समाधान भी हो जाता।

सरदार पटेल का एक तरह से काम पूरा हो चुका था। वे काफी हद तक संतुष्ट थे। इसके बाद पॉन्डिचेरी ( आजकल पुड्डुचेरी ) और गोवा को मुक्त कराना शेष था। पॉन्डिचेरी फ्रांस का उपनिवेश था और गोवा पर पुर्तगाल का अधिकार था। सरदार पटेल के समय में ही इन्हें फ्रांस और पुर्तगाल के कब्जे से मुक्त करने की कार्य - योजना पर काम शुरू हो गया था। उस पर अमल होता , उससे पहले ही हिन्दुस्तान का यह लौह पुरुष दिसंबर 1950 में अपनी अनंत यात्रा पर चला गया। बाद में पॉन्डिचेरी 1954 और गोवा 1961 में भारत का औपचारिक हिस्सा बन पाया। सरदार पटेल उसकी प्रस्तावना तो पहले ही लिख चुके थे।

सरदार पटेल ! हम समस्त भारतवासी आपके हमेशा कर्जदार रहेंगे।

(लेखक : वरिष्ठ पत्रकार एवं पूर्व कार्यकारी निदेशक, राज्यसभा टीवी)

Next Story
Share it
Top