Top
undefined
Breaking

कई बार फिल्मों से रिप्लेस हो चुकी हैं राधिका आप्टे

कई बार फिल्मों से रिप्लेस हो चुकी हैं राधिका आप्टे

नई दिल्ली। राधिका आप्‍टे की 'रात अकेली है' आज नेटफ्लि‍क्‍स पर रिलीज हो रही हैं। वे इन दिनों लंदन में हैं। वहां से उन्‍होंने फिल्‍म और अपने इन दिनों की व्‍यस्‍तताओं के बार में बातचीत की है। - श्रीराम राघवन की बदलापुर के मुकाबले इसमें थ्रिल किस तरह अलग है।

दोनों फिल्‍मों को कंपेयर करना सही नहीं होगा। यहां अलग कहानी, किरदार और बैकड्रॉप हैं। यहा जॉनर बस सेम है और बाकी कुछ भी समानता नहीं हैं। यह भी कि इस तरह की फिल्‍में मुझे बहुत पसंद हैं। इंसानी मन के जटिलताएं मुझे खींचती रही हैं।

नवाज के साथ मांझी और इस फिल्म का कोई यादगार किस्सा

ऐसा कोई किस्‍सा याद तो नहीं रहा है इस फिल्‍म का भी। यह जरूर था कि बड़ा ही व्‍यवस्‍थि‍त था। शूट पर जाने से पहले हमें रिहर्सल का टाइम मिलता था। हर सीन काफी मेमोरेबल था। मेरे कमरे में एक लंबा सीन था। नवाज के साथ वह करने में बड़ा मजा आया। वह कमाल के एक्‍टर तो हैं हीं। उन्‍हें भी सेट पर कई सारे सीन को इंप्रोवाइज करने में हिचकिचाहट नहीं होती, तभी उनके साथ काम करने में बड़ा मजा आता है। वह हमारे मुल्‍क के सबसे फाइनेस्‍ट एक्‍टर्स में से एक हैं।

आगे कौन से नए कॉन्‍टेंट शूट करने के लिए आप से बातें हुई हैं

यह इन्‍फॉरमेशन तो बहुत प्राइवेट है। मेकर्स की तरफ से कोई अनाउंसमेंट हो तो सही है। तब तक मैं नाम डिसक्‍लोज नहीं कर सकती, कि मुझे स्क्रिप्‍ट ऑफर की हैं। कुछ स्क्रिप्‍ट तो मुझे पसंद आई हैं। कइयों पर माथापच्‍ची चल रही है कि उन पर कैसे आगे बढ़ा जाए।

क्या आपके करियर में रिजेक्शन और रिप्लेसमेंट रहे हैं

बतौर एक्‍टर रिजेक्‍शन तो रोजमर्रा की बात है। आप या मैं लिटरली हर दिन रिजेक्‍ट होते हैं। वक्‍त के साथ आप रिजेक्‍शन के आदती हो जाते हैं। रिजेक्‍शन को दिल पर लेंगे तो दिक्‍कत होगी। कई बार डायरेक्‍टर का एक अलग विजन होता है। रिजेक्‍शन के ढेर सारे कारण होते हैं। उसका एक्‍टर की परफॉरमेंस और टैलेंट से कोई नाता नहीं होता। ऐसे में मैं उनको एक्‍सेप्‍ट करते हुए मैं अलग तरह के कॉन्‍टेंट क्रिएशन में जुटती रही और क्रिएटिवली सैटिस्फाई होती रही।

Next Story
Share it
Top