Top
undefined

लॉकडाउन के कारण अंतिम संस्कार में शिरकत नहीं कर पाएंगे इरफ़ान के करीबी लोग

इरफान खान का निधन ऐसे समय हुआ है, जब पूरा देश लॉकडाउन के कारण घरों में कैद है. माना जा रहा है कि इरफान खान के अंतिम संस्कार में परिवार और फिल्मी जगत की गिनी चुनी हस्तियां ही मौजूद रहेंगी.

लॉकडाउन के कारण अंतिम संस्कार में शिरकत नहीं कर पाएंगे इरफ़ान के करीबी लोग
X


नई दिल्ली। कैंसर से जंग लड़ रहे फिल्म अभिनेता इरफान खान का आज निधन हो गया. इरफान खान ने आज मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में अंतिम सांस ली. इरफान के असमय चले जाने का गम सबसे ज्यादा उनके फैंस को है. इरफान का निधन ऐसे समय हुआ है, जब पूरा देश लॉकडाउन के कारण घरों में कैद है. माना जा रहा है कि इरफान खान के अंतिम संस्कार में परिवार और फिल्मी जगत की गिनी चुनी हस्तियां ही मौजूद रहेंगी.

लॉकडाउन की वजह से अपने चहेते अभिनेता इरफान खान के सुपुर्द-ए-खाक में फैंस शामिल नहीं हो पाएंगे. परिवार के चंद लोगों के बीच इरफान खान को दफन किया जाएगा. कुछ दिन पहले इरफान की मां का निधन हुआ था. लॉकडाउन की वजह से इरफान अपनी मां को मिट्टी नहीं दे पाए थे. वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मां के अंतिम संस्कार का हिस्सा बने थे.

बोलती आंखों वाला वो सुपरस्टार जिसने बॉलीवुड ही नहीं हॉलीवुड में भी मचाई धूम

7 जनवरी 1967 में जयपुर में जन्मे इरफान खान ने अपनी करियर की शुरुआत टेलीविजन से की थी, जिसके बाद वह फिल्मों में आए. साल 1998 में फिल्म सलाम बॉम्बे से करियर शुरू करने वाले इरफान खान ने हासिल, हैदर, अंग्रेजी मीडियम, हिन्दी मीडियम, पान सिंह तोमर जैसी ना जाने कितनी फिल्मों में दमदार अभिनय किया.

मां के अंतिम संस्कार में नहीं शामिल हो पाए थे इरफान

इरफान खान के निधन से पहले 25 अप्रैल को उनकी मां सईदा बेगम को निधन हुआ था. रमजान के पहले दिन यानी शनिवार को हुए मां के इंतकाल में इरफान खान शामिल नहीं हो पाए थे. वह मुंबई में थे और उनकी मां का अंतिम संस्कार जयपुर में हुआ था. लॉकडाउन की वजह से मां के अंतिम संस्कार में इरफान खान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शरीक हुए थे.

54 साल की उम्र में इरफान खान का निधन, मुंबई के अस्पताल में तोड़ा दम

इरफान खान कैंसर से जूझ रहे थे. इसकी जानकारी उन्होंने 16 मार्च 2018 को एक ट्वीट के जरिए दी थी. उन्होंने लिखा था- जिंदगी में अचानक कुछ ऐसा हो जाता है जो आपको आगे लेकर जाता है. मेरी जिंदगी के पिछले कुछ दिन ऐसे ही रहे हैं. मुझे न्यूरो इंडोक्राइन ट्यूमर नामक बीमारी हुई है. लेकिन मेरे आसपास मौजूद लोगों के प्यार और ताकत ने मुझमें उम्मीद जगाई है.

Next Story
Share it
Top