Top
undefined

सर्दियों के खानपान से जुड़े ये हैं कुछ चर्चित भ्रम, क्या आप जानते हैं

इस सीजन में शाम को गरमागरम चाय के साथ चटपटे पकौड़े खूब खाए जाते हैं।

सर्दियों के खानपान से जुड़े ये हैं कुछ चर्चित भ्रम, क्या आप जानते हैं
X

अकसर आप लोगों ने यह सुना होगा कि जुकाम होने पर खट्टे फलों से परहेज करना चाहिए। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह एक मिथक है। सर्दियों के मौसम को लेकर ऐसे और भी कई सारे मिथक हैं, जिनसे हम सभी परिचित हैं। हम सब जानते ही हैं कि सर्दियां आते ही हमारी भूख कई गुना बढ़ जाती है। इस सीजन में शाम को गरमागरम चाय के साथ चटपटे पकौड़े खूब खाए जाते हैं। पर यह तो हुई स्वाद की बात। सर्दियों के सेहतमंद खानपान को लेकर भी सालों से कई बातें कही जाती रही हैं। हमने सर्दियों के खानपान की सामान्य भ्रांतियों पर न्यूट्रिशनिस्ट कविता देवगन और तृप्ति टंडन से बात की। यहां आपके लिए हम उनमें से कुछ का जिक्र कर रहे हैं-

मिथक : कुछ न कुछ खाते रहने से शरीर गर्म रहता है

घर में अभिभावकों या दादा-दादी वगैरह से सर्दियों में बीमार होने से बचने के लिए कुछ न कुछ खाते रहने की सलाह आपने सुनी ही होगी, क्योंकि इससे शरीर में गर्मी बनी रहती है। हालांकि विशेषज्ञों की मानें तो कुछ न कुछ खाते रहने से शरीर के तापमान को लेकर कुछ असर नहीं होता। हां, वजन अलग बढ़ जाता है। इसकी बजाय संतुलित आहार लेना सर्दियों में बीमार होने से बचने का सही तरीका है।

मिथक : मसालेदार भोजन से शरीर में गर्मी आती है

मसालेदार भोजन से आपको बस पसीना ही आएगा। अगर आप सोचते हैं कि ज्यादा मिर्च-मसाले वाला भोजन आपको गर्म रखेगा तो आप गलत सोचते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो मसालेदार भोजन आपके शरीर के तापमान पर कोई अहम असर नहीं डालता। इससे थोड़े समय के लिए तापमान भले ही बढ़ जाए, लेकिन लंबे समय के लिए ऐसा नहीं होता।

मिथक : कफ या सर्दी होने पर खट्टे फल नहीं खाने चाहिए

नारंगी या नीबू जैसे खट्टे फल सर्दियों में जरूर खाने चाहिए, क्योंकि इनमें विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में होता है। संतरे सर्दियों में ही आते हैं, जिसके पीछे एक कारण होता है। अगर आपको कोई गला खराब होने या जुकाम वगैरह के कारण इन्हें खाने से रोके, तो आप बेहिचक उन्हें सही जानकारी दें। विटामिन-सी से भरपूर फल आपके भोजन से मिलने वाले पोषण को पचाने में सहायक होते हैं और इस तरह आपका शरीर कफ और सर्दी से भी निजात पा सकता है।

मिथक : डेयरी उत्पादों का इस्तेमाल बंद करने से कफ से राहत

आमतौर पर माना जाता है कि डेयरी उत्पाद को अपने भोजन में शामिल करने पर शरीर में बलगम ज्यादा बनता है। हालांकि विशेषज्ञ मानते हैं कि आहार में दूध लेने और शरीर में बलगम के बनने के बीच में कोई संबंध नहीं है। उनका कहना है कि डेयरी उत्पादों को आहार में शामिल करने से पोषक तत्वों की शरीर में बेहतर खपत हो पाती है। एक चुटकी केसर के साथ गर्म दूध रात में लेना सर्दियों में सामान्य जुकाम और बुखार को दूर रखने का सबसे अच्छा तरीका है।

मिथक : विटामिन सप्लीमेंट्स सर्दियों में आवश्यक हैं

विटामिन सप्लीमेंट लेना अच्छी बात है, लेकिन खास सर्दियों में इन्हें लेने की बात में कोई सच्चाई नहीं है। विशेषज्ञ कहते हैं कि संतुलित आहार से एक व्यक्ति की विटामिन संबंधी आवश्यकताएं पूरी हो जाती हैं और बिना आवश्यकता के विटामिन सप्लीमेंट लेने का शरीर पर कोई असर नहीं होगा।

Next Story
Share it
Top