Top
undefined

ब्लड प्रेशर ही नहीं मोटापे की भी कर देती है छुट्टी इंटरमिटेंट फास्टिंग

ब्लड प्रेशर ही नहीं मोटापे की भी कर देती है छुट्टी इंटरमिटेंट फास्टिंग
X

रोजाना 16 से18 घंटे का उपवास (इंटरमिटेंट फास्टिंग) करने से कई तरह की बीमारियों को ठीक किया जा सकेगा। द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के प्रकाशित शोध के अनुसार इंटरमीटेंट फास्टिंग करने से रक्तचाप कम होता है, वजन में कमी आती है और जीवनकाल भी लंबा होता है।

मोटापे, कैंसर, मधुमेह और हृदयरोगों से बचाव के लिए उपवास को एक बेहतरीन माना जाता है। जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता और प्रोफसेर मार्क मैटसन दो तरह की इंटरमिटेंट फास्टिंग करने का सुझाव देते हैं। पहले प्रकार के उपवास में हर दिन 6 से 8 घंटे की अंतराल पर खाने और 16से 18 घंटे तक उपवास रखने का सुझाव दिया गया है।

इंटरमिटेंट फास्टिंग को लेकर चूहों पर शोध किया गया। शोधकर्ता मैटसन ने कहा, एक दिन छोड़कर उपवास करने और खाने से कोशिकाओं का स्वास्थ्य बेहतर होता है।

शोध रिपोर्ट-

-लंबा जीवन जीने में मदद कर सकता है इंटरमिटेंट फास्टिंग

-इस तरह के उपवास से इंसुलिन प्रतिरोध में होता है सुधार

Next Story
Share it
Top