Top
undefined

दांतों और मसूड़ों को बनाना है मजबूत तो खाने में इस्तेमाल करें ये 4 फूड्स

दांतों और मसूड़ों को बनाना है मजबूत तो खाने में इस्तेमाल करें ये 4 फूड्स
X

दांतों और मसूड़ों को अगर पर्याप्त रूप से पोषक तत्व नहीं मिलता है तो यह कई प्रकार के स्वास्थ्य जोखिम को उत्पन्न कर सकता है। सही मात्रा में जरूरी पौष्टिक तत्व ना मिलने पर पायरिया, दांतों का पीलापन मसूड़ों का कमजोर हो जाना, मुंह से बदबू आना और दांतों में कीड़े लगने की समस्या भी देखने को मिलती है। इतना ही नहीं, प्रभावित व्यक्ति के दांत भी समय से पहले कमजोर होकर गिर जाते हैं और उसे नकली दांतों का सहारा भी लेना पड़ता है। इसलिए अपनी डायट का विशेष ध्यान रखें और खाने में ऐसे फूड्स को शामिल करें जो आपके दांतों और मसूड़ों की सेहत के लिए लाभदायक रहें।

गाजर: यह तो आपको भी पता होगा कि दांतों की सेहत के लिए विटामिन-ए कितना जरूरी होता है। यही वजह है कि ओरल हेल्थ में विटामिन-ए की भूमिका को देखते हुए गाजर को खाने की सलाह डॉक्टर के द्वारा भी दी जाती है। यह दांतों को मजबूत बनाए रखने और उन्हें पीलेपन की समस्या से भी दूर रखने का काम कर सकते हैं। इससे दांतों को मजबूती भी मिलती है।

मूली: शंकर प्रजाति की खोज के बाद मूली आपको अब हर सीजन में बड़ी आसानी से मिल जाती है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, मूली का सेवन दांतों की सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। हालांकि, कुछ लोगों का कहना है कि मूली खाने के बाद मुंह से बदबू आती है, लेकिन इसे नजरअंदाज करने के लिए आप मूली खाने के बाद माउथवॉश से अपने मुंह को धुल भी सकते हैं।

सेब: सेहतमंद दांतों के लिए हमें नियमित रूप से एक सेब का सेवन जरूर करना चाहिए। इसमें मौजूद पौष्टिक तत्व आपको बेहतरीन पोषक तत्वों की पूर्ति करने के साथ-साथ दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाए रखने में भी विशेष भूमिका निभाते हैं। कई रिसर्च में इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि सेब दांतों और मसूड़ों की अच्छी सेहत के लिए एक बेहतरीन फल है।

पनीर: एक क्लिनिकल ट्रायल के दौरान यह देखा गया कि जिन लोगों को मुंह से बदबू आने की समस्या है उन्हें चीज का सेवन कराने के बाद इसमें काफी कमी देखी गई। इसके अलावा पनीर में भी मौजूद कैल्शियम और विटामिन-ए की मात्रा दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाए रखने और ब्लीडिंग गम्स के जोखिम को भी काफी हद तक कम कर देती है।

Next Story
Share it
Top