Top
undefined

चीन के कोरोना के आंकड़ों पर संशय... डेढ़ अरब की आबादी वाले चीन ने झूठ बोला

चीन के कोरोना के आंकड़ों पर संशय... डेढ़ अरब की आबादी वाले चीन ने झूठ बोला
X

वॉशिंगटन. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बाद भारतीय मूल की अमेरिकी नेता निक्की हेली ने गुरुवार को कोरोनावायरस से जुड़े चीन के आंकड़ों पर संदेह जताया है। हेली के मुताबिक, चीन के आंकड़े सटीक नहीं हैं। इससे पहले, ट्रम्प ने कहा था कि कोरोना पर चीन के आंकड़ों पर विश्वास नहीं होता। अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने भी व्हाइट हाउस को बीजिंग के आंकड़ों पर विश्वास नहीं करने की सलाह दी है।

हेली के मुताबिक, एक अरब 50 करोड़ की आबादी वाले चीन में कोरोनावायरस के अब तक 82 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। वहीं, 3 हजार 300 लोगों की मौत हुई है। यह साफ है कि यह सटीक नहीं है। हेली यूनाइटेड नेशंस में अमेरिका की एंबेसडर रह चुकी हैं। चीन की तुलना में अमेरिका में कोरोना संक्रमण के 2 लाख 45 हजार से ज्यादा मामले हैं और अब तक 5 हजार 800 से ज्यादा मौतें हुई हैं।

हेली ने कहा- चीन को अपनी प्रतिष्ठा की चिंता

हेली ने आरोप लगाया कि कोरोना से प्रभावित दूसरे देशों की मदद करने की तुलना में चीन को अपनी चीन को अपनी प्रतिष्ठा की ज्यादा चिंता रहती है। उधर, अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए चीन की वस्तुस्थिति की अलग से समीक्षा कर रही है। उसने व्हाइट हाउस से कहा है कि वह चीन द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों पर यकीन नहीं करे। हाल में न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक लेख प्रकाशित किया था, जिसमें बताया था कि सीआईए चीन के अधिकृत आंकड़ों पर काम कर रही है ताकि चीनी सरकार के झुठला सके। हालांकि, यूएस नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर रोबर्ट ओ ब्रायन ने इस पर सवाल उठाए। कहा कि हमारे पास चीन के वास्तविक आंकड़ों को पाने का तरीका नहीं है।

न्यूयॉर्क सिटी कोरोना का एपिसेंटर बना, 50 हजार केस सामने आए

अमेरिका में अब तक संक्रमण के 2 लाख 45 हजार 66 मामले सामने आए हैं। 6 हजार 75 मौतें हुई हैं। यहां सबसे ज्यादा संक्रमण के करीब 93 हजार मामले न्यूयॉर्क में हैं। इनमें 50 हजार मामले केवल न्यूयॉर्क सिटी के हैं। शहर में लगभग एक हजार 562 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। गुरुवार को यहां चार हजार नए केस सामने आए और 188 लोगों की मौत हुई है। कोरोनावायरस दुनियाभर के करीब 200 से ज्यादा देशों में फैल चुका है। इससे करीब 10 लाख 14 हजार लोग संक्रमित हैं। करीब 53 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं दो लाख 12 हजार लोग ठीक भी हुए हैं।

Next Story
Share it