Top
undefined

नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन बोले- एटमी हथियार सुरक्षा की गारंटी, हम देश के दुश्मनों से संघर्ष कर रहे हैं

नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन बोले- एटमी हथियार सुरक्षा की गारंटी, हम देश के दुश्मनों से संघर्ष कर रहे हैं
X

सियोल। नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन ने कहा है कि परमाणु हथियार उनके देश की सुरक्षा की स्थायी गारंटी हैं। उनका देश दुश्मनों से संघर्ष कर रहा है। किम सोमवार को कोरियन युद्ध समाप्ति की 67वीं वर्षगांठ पर भाषण दे रहे थे। तीन साल चला यह युद्ध 27 जुलाई 1953 को समाप्त हुआ था। नॉर्थ कोरिया इस दिन को विजय दिवस के रूप में मनाता है। किम के इस बयान से अमेरिका के साथ टकराव बढ़ सकता है। अमेरिका किम पर परमाणु निरस्त्रीकरण का दबाव बनाता रहा है। इसको लेकर ट्रम्प और किम की तीन बार मीटिंग भी हो चुकी है, लेकिन कोई नतीजा सामने नहीं आया।

दुश्मनों के साथ संघर्ष जारी

नॉर्थ कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएनए के मुताबिक किम ने कहा, "कोरियाई युद्ध के बाद से ही दुश्मनों के साथ भयंकर संघर्ष जारी है। साम्राज्यवादियों का दबाव भी काफी बढ़ गया है। हमारी नई ताकत से अब इस भूमि पर युद्ध नहीं होगा। राष्ट्रीय सुरक्षा और भविष्य की स्थायी रूप से गारंटी होगी।" 2018 के बाद यह पहली बार है जब किम ने कोरियाई युद्ध के समय के सैनिकों के सामने भाषण दिया। इस तरह की पहली कॉन्फ्रेंस 1993 में हुई थी। किम के कार्यकाल में यह कॉन्फ्रेंस 2012, 2013, 2015 और 2018 में हुई थी।

नॉर्थ कोरिया के पास 30 से 40 परमाणु बम

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिपरी) की रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्थ कोरिया के पास 30-40 परमाणु बम है। वह लगातार और परमाणु हथियार बना रहा है। इस साल की शुरुआत में किम ने बैलिस्टिक मिसाइलों के टेस्टिंग पर लगी रोक भी हटाने का फैसला लिया था। परमाणु हथियार बनाना जारी रखने की भी बात कही थी।

ट्रम्प और किम जोंग उन के बीच अब तक तीन बार मुलाकात हो चुकी है

कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण करने को लेकर ट्रम्प और किम के बीच 12 जून 2018 को सिंगापुर में पहली बैठक हुई।

दूसरी मुलाकात 28 फरवरी 2019 को वियतनाम में हुई थी, किम जोंग उन ट्रेन से 4 हजार किमी की यात्रा कर यहां पहुंचे थे

ट्रम्प ने कोरियाई प्रायद्वीप के असैन्य क्षेत्र (डीमिलिट्राइज्ड जोन, डीएमजेड) में 30 जून 2019 को किम जोंग-उन से मुलाकात की थी।

Next Story
Share it