Top
undefined

डोनाल्ड ट्रंप की मध्यस्थता से इजरायल और यूएई के बीच ऐतिहासिक शांति समझौता

डोनाल्ड ट्रंप की मध्यस्थता से इजरायल और यूएई के बीच ऐतिहासिक शांति समझौता
X

दुबई/वाशिंगटन। इजरायल और संयुक्त राष्ट्र अमीरात (यूएई) ने कुटनीतिक सहयोग के लिए गुरुवार को ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अहम भूमिका अदा की है। राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर इस समझौते की जानकारी दी। इस समझौते के बाद यूएई और इजरायल के बीच राजनयिक संबंधो की नई शुरुआत भी होगी।

वाइट हाउस ने जानकारी दी है कि इस समझौते के कारण इजरायल ने वेस्ट बैंक इलाके में कब्जा करने की योजना को टाल दिया है। इसके साथ ही पश्चिम एशिया में इजरायल की उपस्थिति भी मजबूती होगी। इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, अबुधाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद और डोनाल्ड ट्रंप के बीच गुरुवार को फोन पर हुई चर्चा के बाद इस समझौते को मंजूरी दी गई है।

एक संयुक्त बयान के अनुसार, ''इस ऐतिहासिक कूटनीतिक सफलता से पश्चिम एशिया में शांति लाने में मदद मिलेगी।'' ट्रंप ने ओवल आफिस से कहा, ''49 वर्षों बाद इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात अपने राजनयिक संबंध सामान्य बनाएंगे।'' ट्रंप ने कहा, ''वे अपने दूतावासों और राजदूतों का आदान प्रदान करेंगे और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग शुरू करेंगे जिनमें पर्यटन, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, व्यापार और सुरक्षा शामिल हैं।

उन्होंने कहा, ''अब जब शुरूआत हो गई है, मैं उम्मीद करता हूं कि और अरब एवं मुस्लिम देश संयुक्त अरब अमीरात का अनुसरण करेंगे।'' इस समझौते के तहत इजराइल वेस्ट बैंक के बड़े हिस्सों को अपने में मिलाने की योजना को स्थगित कर देगा।

यूएई की सरकारी समाचार एजेंसी 'वाम' ने बृहस्पतिवार को अमेरिका, इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात का एक संयुक्त बयान साझा किया। बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति ट्रंप, इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान, अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सुप्रीम कमांडर ने बृहस्पतिवार को बात की और इजरायल और यूएई के बीच संबंधों के पूर्ण रूप से सामान्य बनाने सहमति व्यक्त की।

बयान में कहा गया है, ''यह ऐतिहासिक कूटनीतिक सफलता पश्चिम एशिया क्षेत्र में शांति को आगे बढ़ाएगी। यह तीनों नेताओं की साहसिक कूटनीति एवं दृष्टि तथा एक नया रास्ता खोलने के संयुक्त अरब अमीरात और इजरायल के साहस को दिखाता है। इससे क्षेत्र में व्यापक संभावनाओं का निर्माण होगा। तीनों देशों ने एकसमान चुनौतियों का सामना किया है और आज की ऐतिहासिक उपलब्धि से वे पारस्परिक रूप से लाभान्वित होंगे।'' नेतन्याहू ने ट्वीट किया कि यह एक ''ऐतिहासिक दिन है।''

Next Story
Share it