Top
undefined

पाक में एक और सिख लड़की अगवा, धर्म परिवर्तन के बाद शादी कराई

पाक में एक और सिख लड़की अगवा, धर्म परिवर्तन के बाद शादी कराई
X

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में शुक्रवार को एक और सिख लड़की अगवा कर ली गई। पुलिस के मुताबिक, लड़की ने बाद में धर्म परिवर्तन कर लिया। इस्लाम कबूल करने के बाद उसने एक स्थानीय लड़के से निकाह किया है। 22 साल की इस लड़की का नाम और परिवार की जानकारी अब तक सामने नहीं आई है।

पिछले साल, ननकाना में गुरुद्वारा तंबू साहिब के मुख्य ग्रंथी की बेटी को भी अगवा किया गया था। उसने दबाव में इस्लाम कबूल कर लिया और एक मुस्लिम लड़के से निकाह कर लिया था। इस घटना के बाद ननकाना साहिब में कई दिनों तक तनाव रहा था।

राजधानी के करीब है हासन अब्दाल

'द डॉन न्यूज' की रिपोर्ट के मुताबिक, 22 साल की सिख लड़की शुक्रवार को घर से किसी काम के लिए निकली थी। इसके बाद लापता हो गई। घटना हासन अब्दाल क्षेत्र की है जो राजधानी इस्लामाबाद से सिर्फ 40 किलोमीटर दूर है। डीएसपी राजा फैयाज उल हसन ने कहा- हासन अब्दाल पुलिस स्टेशन में अज्ञात लोगों के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज किया गया है। लड़की के पिता ने इस बारे में लिखित शिकायत दी थी। हम लड़की की तलाश कर रहे हैं।

परिवार को वॉट्सऐप मैसेज किया

पुलिस के मुताबिक, लड़की ने घटना के बाद परिवार को एक वॉट्सऐप मैसेज किया था। इसमें उसने कहा कि वो अपनी मर्जी से इस्लाम कबूल कर चुकी है। उसने निकाह की जानकारी भी दी है। पुलिस लड़की की तलाश की जा रही है ताकि उसका बयान दर्ज किया जा सके। सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अमीर सिंह ने घटना की पुष्टि की। सिंह ने कहा- पीड़ित परिवार गुरुद्वारा पुंजा साहिब के करीब रहता था। लड़की के पिता और चाचा ने पंजाब प्रांत के एक मंत्री से मुलाकात कर उनसे मदद मांगी है।

पाकिस्तान में हर साल हजार से ज्यादा लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन

पाकिस्तान में गैर-मुस्लिम लड़कियों का जबरन अपहरण किया जाता है। उनका धर्म परिवर्तन किया जाता है। उसके बाद जबर्दस्ती किसी मुसलमान से उनकी शादी करवा दी जाती है। यूनाइटेड स्टेट्स कमिशन ऑन इंटरनेशनल रिलिजियस फ्रीडम के डेटा की मानें तो पाकिस्तान में हर साल 1 हजार से ज्यादा (12 से 28 साल के बीच) लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराया जाता है। उनसे इस्लाम कबूलवाया जाता है। उन्हें अगवा किया जाता है। बलात्कार किया जाता है और फिर जबरन उनकी शादी की जाती है। इनमें ज्यादातर हिंदू और ईसाई लड़कियां ही होती हैं।

Next Story
Share it
Top