Top
undefined

मुशर्रफ को फांसी की सजा सुनाने वाले जज नहीं रहे, कोरोना से हारे जिंदगी की जंग

मुशर्रफ को फांसी की सजा सुनाने वाले जज नहीं रहे, कोरोना से हारे जिंदगी की जंग
X

पाकिस्तान। पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह के मामले में मौत की सजा सुनाने वाले पेशावर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश वकार सेठ का कोरोना वायरस संबंधी दिक्कतों के चलते इस्लामाबाद में एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सेठ 58 वर्ष के थे। उनके परिवार में पत्नी और एक बेटी है। वह खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के दीखान जिले से संबंध रखते थे।

अधिकारियों ने कहा कि सेठ 22 अक्टूबर को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे, जिसके बाद उन्हें पेशावर में एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में उन्हें इस्लामाबाद के कुलसुम इंटरनेशनल अस्पताल ले जाया गया था, जहां उनका निधन हो गया। सेठ ने जून 2018 में पेशावर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर शपथ ली थी।

वह उस वक्त चर्चा में आए थे जब दिसंबर 2019 में उन्होंने एक विशेष पीठ की अध्यक्षता करते हुए पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ को तीन नवंबर, 2007 को देश में आपातकाल लागू करने से संबंधित देशद्रोह के मामले में मौत की सजा सुनाई थी।

साल 1999 से 2008 के बीच पाकिस्तान में शासन करने वाले मुशर्रफ पहले सैन्य तानाशाह थे, जिन्हें संविधान पलटने का दोषी पाया गया था। मार्च 2016 से दुबई में रह रहे 74 वर्षीय मुशर्रफ इलाज के लिये पाकिस्तान से चले गए थे। तब से वह सुरक्षा और स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर वापस नहीं लौटे हैं।

Next Story
Share it