Top
undefined

चीन की चालाकी, हिंद महासागर में अंडरवॉटर ड्रोन्स तैनात कर रहा है चीन : रिपोर्ट

चीन की चालाकी, हिंद महासागर में अंडरवॉटर ड्रोन्स तैनात कर रहा है चीन : रिपोर्ट
X

न्यू जर्सी। रक्षा मामलों के विश्लेषक एचआई सटन ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि चीन ने हिंद महासागर में ग्लाइडर्स नाम से जाने जाने वाले अंडरवॉटर ड्रोन्स का एक बेड़ा तैनात किया है, जो महीनों तक काम कर सकते हैं और नेवी की खुफिया उद्देश्यों के तहत निगरानी कर सकते हैं। फोर्ब्स मैगज़ीन के लिए लिखी गई अपनी रिपोर्ट में सटन ने कहा है कि चीन इन ग्लाइ़डर्स को बड़े स्तर पर तैनात कर रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ये ग्लाइडर्स का ही एक प्रकार हैं, जिन्हें 2019, दिसंबर के मध्य में लॉन्च किया गया था और फिर फरवरी में वापस निकाल लिया गया था। इस अवधि में इन्होंने 3,400 से ज्यादा ऑब्ज़र्वेशन किए थे। सरकारी सूत्रों का हवाला देते हुए सटन ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि चीन के ये ग्लाइडर्स वैसे ही हैं, जैसे यूएस नेवी ने तैनात किए थे और चीन ने 2016 में इनमें से एक को 'रास्ते से गुजरने वाले जहाजों के लिए सुरक्षित नेविगेशन' सुनिश्चित करने का हवाला देकर जब्त कर लिया था। सटन ने लिखा, 'अगर इस बात पर भरोसा करें तो यह बहुत हैरानी की बात है कि चीन अब हिंद महासागर में बड़े स्तर पर ऐसे यूयूवी तैनात कर रहा है। चीन ने आर्कटिक में भी सी विंग तैनात किया है।'

डिफेंस एक्सपर्ट सटन ने बताया है कि पिछले साल दिसंबर में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कहा जा रहा था कि चीन ऐसे 14 ग्लाइडर्स हिंद महासागर में डालेगा, लेकिन इनमें से बस 12 ही इस्तेमाल किए गए। उन्होंने बताया कि इसमें प्रॉपेलिंग के लिए कोई फ्यूल सिस्टम नहीं है। ये बड़े विंग्स के सहारे समुद्र में नीचे ग्लाइड करते रहे हैं। ये बहुत तेज या फुर्तीले नहीं होते हैं, लेकिन ये लंबे मिशन पर काम कर सकते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि हिंद महासागर में ये चीनी ग्लाइडर्स कथित रूप से समुद्र विज्ञान से जुड़ी जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं, जो अपने आप में 'कोई नुकसानदायी' बात नहीं लगती, हालांकि डेटा का इस्तेमाल नेवी के खुफिया उद्देश्यों के लिए भी किया जाता है।

Next Story
Share it