Top
undefined

अनमोल नारंग ने रचा इतिहास, 218 साल बाद अमेरिकी सैन्य अकादमी से ग्रेजुएट होने वाली पहली सिख लेफ्टिनेंट बनेंगी

अमेरिकी सैन्य अकादमी से स्नातक की डिग्री प्राप्त करने वाली पहली सिख महिला बनकर आज इतिहास रचेंगी। वैसे, नारंग का जन्म अमेरिका में हुआ है। जॉर्जिया के रोजवेल में नारंग की परवरिश हुई।

अनमोल नारंग ने रचा इतिहास, 218 साल बाद अमेरिकी सैन्य अकादमी से ग्रेजुएट होने वाली पहली सिख लेफ्टिनेंट बनेंगी
X

रोजवेल, अमेरिका में एक भारतीय महिला इतिहास रचने जा रही है। सेकंड लेफ्टिनेंट अनमोल नारंग वेस्ट प्वाइंट स्थित अमेरिकी सैन्य अकादमी से स्नातक की डिग्री प्राप्त करने वाली पहली सिख महिला बनकर आज इतिहास रचेंगी। वैसे, नारंग का जन्म अमेरिका में हुआ है। जॉर्जिया के रोजवेल में नारंग की परवरिश हुई। उन्होंने जॉर्जिया प्रौद्योगिकी संस्थान से स्नातक की पढ़ाई की और उसके बाद वेस्ट प्वाइंट गईं, जहां वह परमाणु इंजीनियरिंग में शनिवार को स्नातक की डिग्री हासिल करेंगी।

वायु रक्षा प्रणाली में करियर बनाना चाहती हैं नारंग

न्यूयॉर्क स्थित एक एनजीओ 'सिख कोलिशन' द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में नारंग ने कहा, 'मैं बहुत उत्साहित हूं कि वेस्ट प्वाइंट से स्नातक करने का मेरा ख्वाब पूरा होगा। यह मेरे लिए गर्व की बात है। जॉर्जिया में मेरे समुदाय ने मुझमें जो भरोसा दिखाया और मुझे जो सहयोग दिया, वह मेरे लिए बहुत मायने रखता है। मैं अभिभूत हूं कि इस लक्ष्य तक पहुंचकर मैं अन्य सिख अमेरिकियों को यह दिखा रही हूं कि किसी के लिए भी करियर में कोई भी रास्ता चुनना मुमकिन है।' अधिकारियों ने बताया कि नारंग ओकलाहोमा में बेसिक ऑफिसर लीडरशिप कोर्स पूरा करेंगी और इसके बाद उन्हें जनवरी में जापान के ओकीनावा में पहली तैनाती के लिए भेजा जाएगा।

अमेरिकी सेना में 218 साल बाद ऐसा मौका

अमेरिका जैसे खुले विचारों वाले देश में 218 साल बाद ऐसा होने जा रहा है। अमेरिकी सेना के इतिहास में 218 साल बाद ऐसा होने जा रहा है, जब कोई गैर-अमेरिकन महिला को इतना बड़ा पद मिला है। बीते लगभग 200 सालों में ऐसा देखने को नहीं मिला है। रिपोर्ट के अनुसार अनमोल नारंग ने अमेरिकी सेना के ऐतिहासिक बैरिकेडिंग को तोड़ दी है। न्यूयॉर्क टाइम्स रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी सेना में 1925 के बाद रंगभेद का प्रभाव बढ़ गया था। सेना के अधिकतर अधिकारी रैंक का पद एक विशेष वर्ग को जाने लगा, जिसके कारण निचले स्तर पर भी उसी वर्ग का वर्चस्व बढ़ता गया। ऐसा लगभग एक सदी से चलता आ रहा है।

नारंग के दादाजी थे भारतीय सेना में

बता दें कि अनमोल नारंग की रगों में एक सैनिक खून है। उनके दादाजी भारतीय सेना में जवान थे। इसलिए नारंग भी बचपन से ही दादाजी से प्रेरित थी। अनमोल ने दादाजी से प्रेरणा लेकर ही सैन्य क्षेत्र में कदम रखा। अनमोल ने बताया कि ये एक सपने का पूरा होने जैसा है। यह भी बहुत कम देखने को मिला है, जब किसी भारतीय सैनिक की संतान अमेरिकी सेना में किसी बड़े पद पर पहुंची हो।

Next Story
Share it