Top
undefined

इदलिब में 33 तुर्की सैनिकों की मौत के बाद दबाव में आए रूस और तुर्की, आपातकालीन बैठक बुलाई

एक आपातकालीन बैठक का आयोजन किया है। तनाव को कम करने के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने टेलीफोन से बात की।

इदलिब में 33 तुर्की सैनिकों की मौत के बाद दबाव में आए रूस और तुर्की, आपातकालीन बैठक बुलाई
X

इस्‍तांबुल, सीरिया में हवाई हमले में 33 तुर्की सैनिकों की मौत के बाद रूस और तुर्की ने एक नई पहल की है। रूस और तुर्की ने इस क्षेत्र में तनाव को कम करने के लिए एक आपातकालीन बैठक का आयोजन किया है। तनाव को कम करने के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने टेलीफोन से बात की। क्रेमलिन ने कहा कि दोनों नेताओं ने स्थिति के बारे में गंभीर चिंता व्यक्त की है। उधर, सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा है कि इदलिब में 45 सीरियाई सैनिकों को मार डाला। हालांकि सीरियाई सरकार की ओर से कोई पुष्टि नहीं की गई थी। तुर्की में दस हिजबुल्‍लाह लड़ाकों को मौत के घाट उतार दिया। हिजबुल्‍लाह ईरान द्वारा समर्थित लेबनानी शिया समूह है। इस बीच संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका में विद्रोहियों के खिलाफ रूसी समर्थिक सीरियाई आक्रमण के अंत करने का आग्रह किया है। सीरिया में आठ वर्ष से चल रहे गृहयुद्ध पर संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी चिंता जाहिर की है। इस गृहयुद्ध में दस लाख लोग विस्‍थापित हो चुके हैं। विस्‍थापित लोगों में बच्‍चों की बड़ी तादाद है। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोल ने कहा कि वार्ता के दरवाजे हमेशा के लिए खुलें हैं। उन्‍होंने कहा कि दोनों नेताओं ने 2018 में युद्ध विराम लागू करने पर जोर दे रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि दोनों नेताओं ने इदलिब में शांति के लिए जोर दिया है। पुतिन के प्रवक्‍ता दिमित्री पेसकोव ने कहा कि एर्दोगन अगले सप्ताह वार्ता के लिए मास्को जा सकते हैं। सैनिकों की हत्या से पहले एर्दोगन ने पांच मार्च को पुतिन के साथ बैठक की बात स्‍वीकार की थी। उन्‍होंने कहा कि इस बैठक में फ्रांस और जर्मनी के नेता भी शामिल होंगे। इस बीच व्‍हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने एर्दोगन के साथ तुर्की सैनिकों पर हमले की निंदा की है। अमेरिका ने सीरिया और और रूस से इदलिब में अपने ऑपरेशन को रोकने का आग्रह किया है। एक वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी ने स्वीकार करते हुए कि तुर्की में तनाव के लिए असद शासन को दोषी ठहराया था। अधिकारी ने कहा है कि इस आक्रामक के लिए रूस जिम्मेदार है।

Next Story
Share it