Top
undefined

पश्चिमी अमेरिका के जंगलों में आग से अब तक 7 की मौत; 14 हजार फायर फाइटर्स और 60 हेलिकॉप्टर्स से काबू पाने की कोशिश अब तक नाकाम

पश्चिमी अमेरिका के जंगलों में आग से अब तक 7 की मौत; 14 हजार फायर फाइटर्स और 60 हेलिकॉप्टर्स से काबू पाने की कोशिश अब तक नाकाम
X

वॉशिंगटन। अमेरिका के पश्चिमी हिस्से में जंगल की आग बेहद खतरनाक हो गई है। एक बच्चे समेत सात लोगों की मौत हो चुकी है। ओरेगन और कैलिफोर्निया में इसका असर ज्यादा है। ओरेगन में कार से सफर कर रहे दो लोग इसकी चपेट में आ गए। तेज हवा के कारण आग उन तक इतनी तेजी से पहुंची कि उन्हें बाहर निकलने का मौका तक नहीं मिल सका।

ओरेगन में कम्युनिकेशन नेटवर्क पूरी तरह ठप हो चुका है। गवर्नर केट ब्राउन ने कहा- इस राज्य के इतिहास में अब तक इतनी भीषण आग नहीं लगी। आसमान का रंग सुर्ख हो चुका है।

कैलिफोर्निया : चार लोग मारे गए

यहां ओकानगन काउंटी में एक बच्चे की मौत हुई। वो पैरेंट्स के साथ कार में था। पैरेंट्स भी गंभीर हालत में हैं। बुटे काउंटी में तीन लोगों की मौत हुई। ये लोग एक घर में सो रहे थे। कैलिफोर्निया के अकेले बुटे काउंटी में ही 4200 घर खाक हो चुके हैं। यहां हेलिकॉप्टर से नदी का पानी लेकर आग बुझाने की कोशिश की जा रही है। प्रशासन को बहुत कम कामयाबी मिल पाई है।

ओरेगन : संपर्क करना भी मुश्किल

न्यूज नेटवर्क के मुताबिक, ओरेगन के अलमेडा एरिया में आग बेहद खतरनाक है। मेडफोर्ड भी प्रभावित है। इसकी काउंटी शेरिफ नाथ सिकलर ने की। उन्होंने कहा- तीन हजार एकड़ में सिर्फ तबाही है। कामयाबी शून्य है। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ओरेगन में हालात को लेकर एक ट्वीट किया। इसमें फोटोज भी थे। राज्य में 4 लाख 76 हजार 994 एकड़ क्षेत्र अब तक लपटों की चपेट में आ चुका है।

प्रशासन की परेशानी क्या

राज्य और केंद्र सरकार ने आग को रोकने की हर मुमकिन कोशिश की है। लेकिन, तेज हवाओं के सामने वे बेबस हैं। दरअसल, सिर्फ इन राज्यों में ही नहीं, अमेरिका के ज्यादातर हिस्से में खुला इलाका और जंगल काफी हैं। इनकी वजह से छोटी सी आग भी भयानक हो जाती है। प्रशासन लोगों को बचाने में तो काफी हद तक कामयाब हो जाता है लेकिन, लाखों डॉलर की प्रॉपर्टी खाक हो जाती है।

कोशिश भरपूर, कामयाबी नहीं

14 हजार फायर फाइटर्स आग बुझाने में जुटे हैं। उनकी सहायता के लिए 60 से ज्यादा हेलिकॉप्टर लगाए गए हैं। ताकतवर पम्प लगाए गए हैं। लेकिन, 40 से 50 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाएं इंतजामों को नाकाम कर रही हैं।

Next Story
Share it