Top
undefined

ब्रिटेन की 90 साल की महिला को दुनिया में सबसे पहले लगा फाइजर का कोरोना टीका

ब्रिटेन की 90 साल की महिला को दुनिया में सबसे पहले लगा फाइजर का कोरोना टीका
X

ब्रिटेन। उत्तरी आयरलैंड की 90 साल की एक महिला कोरोना से बचाव के लिए फाइजर/बायोएनटेक द्वारा निर्मित टीका लगवाने वाली दुनिया की पहली व्यक्ति बन गई हैं। मार्गरेट कीनान 'मैगी' को टीका लगाए जाने के साथ ही ब्रिटेन के इतिहास के सबसे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत भी हो गई। मैगी को कोवेंट्री के स्थानीय अस्पताल में सुबह 6 बजकर 31 मिनट पर नर्स मे पारसंस ने covid-19 का टीका लगाया। नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) ने इसे 'ऐतिहासिक पल' बताया। इस दिन को भयावह कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में 'V-Day' या 'Vaccine Day' कहा जा रहा है।

खास महसूस कर रही हूं-मैगी

अगले हफ्ते 91 साल की होने जा रही मैगी ने कहा कि मुझे बहुत खास महसूस हो रहा है कि मैं ऐसी पहली व्यक्ति हूं जिसका covid-19 से बचाव के लिए टीकाकरण किया गया। समय से पहले मिला यह मेरे लिए जन्मदिन का सबसे अच्छा गिफ्ट है क्योंकि इसका मतलब यह होगा कि अब अंतत: मैं अपने परिवार और दोस्तों के साथ मिलकर नया साल मना सकती हूं। इस लगभग पूरे साल मुझे अकेला ही रहना पड़ा। मैगी को अगली खुराक (बूस्टर डोज) के तौर पर दूसरा टीका 21 दिन बाद लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मेरी सलाह होगी कि जिसे भी टीका प्राप्त हो, वह उसे स्वीकार करे। यदि मैं 90 की उम्र में इसे लगवा सकती हूं तो आप भी लगवा सकते हैं। मैगी उन चुनिंदा लोगों में शामिल हैं जिनसे NHS ने टीका लगाने के लिए पहले से संपर्क कर रखा था।

इनको भी दी गई वैक्सीन

मैगी के अलावा उत्तर-पूर्वी इंग्लैंड के भारतीय मूल के 87 साल के हरि शुक्ला दुनिया के उन कुछ पहले लोगों में शामिल होंगे, जिन्हें कोविड-19 का टीका लगेगा। शुक्ला को न्यूकैसल में एक अस्पताल में 'फाइजर/बायोएनटेक' द्वारा विकसित टीका लगाया जाएगा। टाइन एंड वेयर के निवासी शुक्ला ने कहा कि उन्हें लगता है कि टीके की पहली दो खुराक लगवाना उनका कर्तव्य है। वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस पल को ''एक बड़ी प्रगति'' बताया और ब्रिटेन में मंगलवार को ''वी-डे' या ''वैक्सीन डे'' होने की बात कही है।

मैगी और शुक्ला समेत कुछ लोगों को NHS द्वारा ब्रिटेन की टीका एवं टीकाकरण संबंधी संयुक्त समिति द्वारा निर्धारित मानदंड के आधार पर चुना गया था। घातक वायरस से मौत का सबसे अधिक खतरा जिन लोगों को है, उसके आधार पर ही टीकाकरण किया जाएगा। सबसे पहले यह टीका 80 या उससे अधिक साल के लोगों, स्वास्थ्य कर्मी सहित NHS के कर्मियों को सबसे पहले लगेगा।

Next Story
Share it