Top
undefined

कोरोना वायरस से लड़ रहे देशों की सहायता को आगे आया अमेरिका, पेश की 10 करोड़ डॉलर की मदद

चीन में अब तक 717 लोगों की हो चुकी है मौत, कोरोना वायरस को फैलने से रोकने वाले मास्क और अन्य सुरक्षा उपकरणों की दुनिया भर में हो रही है कमी

कोरोना वायरस से लड़ रहे देशों की सहायता को आगे आया अमेरिका, पेश की 10 करोड़ डॉलर की मदद
X

नई दिल्ली: अमेरिका ने कोरोना वायरस से प्रभावित चीन और अन्य देशों को इस महामारी से लड़ाई के लिए 10 करोड़ डॉलर की मदद की पेशकश की है. विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने शुक्रवार को कहा, ''इस महामारी से लड़ाई के लिए यह प्रतिबद्धता अमेरिका के मजबूत नेतृत्व को प्रमाणित करती है.'' कोरोना वायरस ने चीन में कोहराम मचा रखा है. इस वायरस की चपेट में आने से चीन में अब तक 717 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 25 हजार से अधिक लोग इससे प्रभावित हैं.

दुनिया सुरक्षा उपकरण की भारी कमी का कर रही है सामना

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ने भी शुक्रवार को चेतावनी दी कि, कोरोना वायरस को फैलने से रोकने वाले मास्क और अन्य सुरक्षा उपकरणों की दुनिया भर में कमी हो रही है. तेदरोस अदहानोम गेब्रेयसस ने जिनेवा में डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी बोर्ड को बताया, "दुनिया सुरक्षा उपकरण की भारी कमी का सामना कर रही है."

चीन से सभी छात्रों की वापसी

वायरस के खतरे को देखते हुए भारत अपने लगभग सभी छात्रों को प्रभावित इलाकों से स्पेशल विमान से ले आया है. इसी बीच जो खबरें आ रही हैं उसके मुताबिक भारत सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए चीन के वुहान शहर से भारत के तमाम पड़ोसी छात्रों को भी वहां से निकालने का संबंधित देशों को प्रस्ताव दिया था. इस संबंध में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को राज्यसभा में जानकारी दी.

70 लोगों ने स्वेच्छा से चीन में रहने का किया फैसला

गौरतलब है कि भारत 31 जनवरी और एक फरवरी को 654 छात्रों को चीन के वुहान शहर से स्वदेश वापस लाया था. आपको ये भी बता दें कि अभी भी चीन के वुहान में 80 भारतीय नागरिक मौजूद हैं. इनमें से 70 लोगों ने स्वेच्छा से वहां रहने का फैसला किया है वहीं, 10 लोग ऐसे हैं जिन्हें वापस आने की इजाजत इसलिए नहीं दी गई है क्योंकि उनमें कोरोना वायरस के लक्षण देखे गए हैं.

Next Story
Share it