Top
undefined

करॉना वायरसः दहशत ऐसी कि चीन में बीमार बच्चों को छोड़ प्लेन में बैठे पैरंट्स

करॉना वायरस के डर से चीन में लोग अपने घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जा रहे हैं, एयरलाइन कंपनियां भी बीमार लोगों को प्लेन में बैठने से रोक रही हैं, चीन के नाजिंग शहर के एक एयरपोर्ट पर कर्मचारियों और यात्रियों के बीच हुई लड़ाई, देर तक चले हंगामे के बाद मां-बाप अपने दो बच्चों को एयरपोर्ट पर ही छोड़कर चले गए

करॉना वायरसः दहशत ऐसी कि चीन में बीमार बच्चों को छोड़ प्लेन में बैठे पैरंट्स
X

पेइचिंग. चीन में फैले घातक करॉना वायरस से दुनिया के कई देश चिंतित हैं। चीन में हालात ऐसे हैं कि हर शख्स को संदेह की नजर से देखा जा रहा है। जान बचाने के लिए लोग उन शहरों का रुख कर रहे हैं, जहां इसका असर नहीं है। वायरस के प्रसार को देखते हुए एयरलाइन कंपनियां भी डरी हुई हैं और ऐहतियातन कदम उठाते हुए बीमार लोगों को उड़ान की इजाजत नहीं दे रही हैं। इसके चलते बुधवार रात चीन के नाजिंग शहर के एक एयरपोर्ट पर जमकर हंगामा हुआ। आखिर में माता-पिता अपने बीमार बच्चों को एयरपोर्ट पर ही छोड़कर अकेले विमान में सवार हो गए।

गौरतलब है कि चीन में अब तक सार्स जैसे लक्षण वाले इस वायरस की चपेट में आने से 26 लोगों की मौत हो चुकी है और संक्रमण को रोकने के लिए 14 शहर सील कर दिए गए हैं। करीब 4.1 करोड़ लोग अपने घरों में कैद होने को मजबूर हो गए हैं। प्रशासन ट्रेनों, बसों, एयरपोर्ट पर भी सघन स्क्रीनिंग कर रहा है।

...और बच्चों को छोड़ प्लेन में बैठे पैरंट्स

चीनी मीडिया के मुताबिक, यह जोड़ा दो बच्चों के साथ चांगसा शहर जाने के लिए नाजिंग एयरपोर्ट पहुंचा। उनके बेटे को फीवर के कारण प्लेन में बैठने की इजाजत नहीं दी गई। बच्चों के पैरंट्स ने डिपार्चर गेट ब्लॉक कर दिया और बच्चों को साथ ले जाने पर अड़े रहे। इस बीच पुलिस बीच-बचाव करने आई और पैरंट्स बच्चों को वहीं छोड़कर प्लेन में बैठ गए जिससे एयरपोर्ट पर मौजूद कर्मचारी और यात्री भी हैरान रह गए।

इस घटना से संबंधित तस्वीरें वायरल हो रही हैं जिसमें दो बच्चे एयरपोर्ट पर अकेले दिख रहे हैं। हालांकि, कुछ समय बाद एयरलाइन कंपनी मान गई और बच्चों को प्लेन के केबिन में बैठने की इजाजत दे दी गई।

14 शहर सील, 4 करोड़ लोग 'बंद'

करॉना वायरस के फैलने की आशंका को देखते हुए अब तक 14 शहरों को सील कर दिया गया है। इसके कारण इन शहरों में रह रही करीब 4.1 करोड़ की आबादी प्रभावित है। देश हुबेई प्रांत में ही इस वायरस का सबसे पहले पता चला था। वायरस को फैलने से रोकने के लिए बीते 24 घंटे में हुबेई प्रांत के शहरों पर लगाए गए यात्रा प्रतिबंध में चार नए नाम शियानिंग, शियाओगन, एन्शी और झिजियांग जुड़ गए हैं। अब तक 800 लोग इसके प्रभाव में आ चुके हैं। पहला मामला हुबेई की राजधानी वुहान से आया था जहां इस महामारी के केंद्र के तौर पर एक सीफूड और पशुओं के बाजार की पहचान हुई थी।

ग्रेट वॉल ऑफ चाइना, डिज्नीलैंड भी बंद

इस बीच खबर आई है क ग्रेट वॉल ऑफ चाइना और शंघाई में मौजूद डिज्नीलैंड को बंद कर दिया गया है। बता दें कि यह दोनों ही जगह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। प्रशासन ने यह फैसला इसलिए लिया है ताकि लोग बड़ी संख्या में एक जगह इकट्ठा न हों, और न ही वायरस का प्रसार हो। वहीं, ऐसा दावा किया जा रहा है कि वुहान रेलवे स्टेशन के पास आर्मी जवानों को तैनात किया गया है।

मैकडॉनल्ड के आउटलेट क्लोज

चीन में कल नए साल का जश्न मनाया जाएगा, जब दुनियाभर से लाखों लोग अपने घर पहुंचते हैं, लेकिन पूरे देश में बड़े जश्नों पर रोक लगा दी गई है। पेइचिंग और हॉन्ग कॉन्ग में कार्निवल बैन कर दिया गया है। मैकडॉनल्ड ने हुबई के पांच शहरों में अपने ब्रांच को बंद करने का आदेश दिया है।

Next Story
Share it