Top
undefined

मुशर्रफ को फांसी की सजा, अदालत का आदेश- सजा से पहले हो जाए मौत तो चौराहे पर खींचकर लाया जाए और लटकाया जाए शव

मुशर्रफ को फांसी की सजा, अदालत का आदेश- सजा से पहले हो जाए मौत तो चौराहे पर खींचकर लाया जाए और लटकाया जाए शव
X

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को फांसी की सजा सुनाई गई है. मुशर्रफ को 5 बार फांसी लगाई जा सकती है. यह बात स्पेशल कोर्ट ने आज अपने विस्तृत फैसले में बताई है. पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ को मौत की सजा सुनाने वाली पाकिस्तान की विशेष अदालत ने अपना फैसला लिख दिया है। अपने फैसले में अदालत ने कहा है कि यदि मुशर्रफ को फांसी दिए जाने से पहले उनकी मौत हो जाती है तो उनके शव को इस्लामाबाद के सेंट्रल स्क्वायर पर खींचकर लाया जाए और तीन दिन तक लटकाया जाए। मंगलवार को मुशर्रफ को मौत की सजा सुनाने वाली तीन सदस्यीय पीठ के प्रमुख और पेशावर हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश वकार अहमद सेठ ने 167 पन्नों का विस्तृत फैसला लिखा है।

कोर्ट के विस्तृत फैसले के मुताबिक परवेज मुशर्रफ को 5 मामलों में दोषी पाया गया है और सभी मामलों में उनको मौत की सजा दी गई है. विशेष अदालत के फैसले में यह भी कहा गया है कि वे सभी जो वर्दी में थे और मुशर्रफ द्वारा लगाए गए आपातकाल का हिस्सा थे और उसके लिए जिम्मेदार थे, वे सब भी इस मामले में पक्षकार हैं, उन्हें भी जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए.

फांसी से पहले मरे मुशर्रफ तो 3 दिन चौराहे पर लटकेगी लाश

विशेष अदालत के विस्तृत निर्णय में एक न्यायाधीश ने लिखा है, "अगर (मुशर्रफ) मृत पाए गए (अदालत के फैसले को लागू करने से पहले), तो उनकी लाश को डी-चौक, इस्लामबाद, पाकिस्तान ले जाया जाए और 03 दिनों के लिए फांसी पर लटका जाए".

पाकिस्तान के पहले 'गद्दार' बने मुशर्रफ

विशेष अदालत के फैसले के अनुसार, पूर्व सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ देश के पहले 'गद्दार' के रूप में सामने आए हैं. विशेष अदालत में यह मामला करीब 6 साल चला और करीब 125 सुनवाई हुईं, जिसमें से मुशर्रफ केवल एक में मौजूद थे.

इस वजह से दी गई फांसी की सजा

169 पन्नों के विस्तृत फैसले में मुशर्रफ को कम से कम पांच मामलों में दोषी पाया गया और उन्हें पांच में से प्रत्येक मामले में मौत की सजा सुनाई गई है. आपको बता दें कि मुशर्रफ को 2 नवंबर, 2007 को पाकिस्तान में इमरजेंसी लगाने के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी, उनको पाकिस्तान के संविधान के अनुच्छेद 6 के अनुसार दोषी पाया गया था.

तीन जजों की पीठ ने दिया फैसला

विशेष अदालत की तीन सदस्यीय पीठ में पेशावर उच्च न्यायालय (पीएचसी) के न्यायमूर्ति वकार अहमद सेठ, लाहौर उच्च न्यायालय (एलएचसी) के न्यायमूर्ति शाहिद करीम और सिंध उच्च न्यायालय (एसएचसी) के न्यायमूर्ति नजर अकबर शामिल थे.

मुशर्रफ ने तोड़ी अपनी चुप्पी

देशद्रोह केस में मौत की सजा मिलने के बाद पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने अपनी चुप्पी तोड़ दी. उन्होंने आरोप लगाया कि बदले की भावना के तहत कार्रवाई की गई है. मुशर्रफ ने कहा है कि ऐसे फैसले का कोई उदाहरण नहीं है, जिसमें न तो प्रतिवादी और न ही मेरे वकील को बचाव में कुछ कहने की अनुमति दी गई थी. मुशर्रफ ने कहा कि वे अपने कानूनी सलाहकारों से चर्चा करने के बाद इस संबंध में अपनी आगे की योजना बताएंगे.

सजा पर भड़की पाकिस्तानी सेना

विशेष अदालत द्वारा संगीन राजद्रोह के एक मामले में मुशर्रफ को मौत की सजा सुनाने पर पाकिस्तानी सेना देश की न्यायपालिका पर बरस पड़ी. पाकिस्तानी सेना के आधिकारिक मीडिया विंग इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने एक बयान में अदालत के फैसले पर नाखुशी जाहिर करते हुए कहा कि समूची पाकिस्तानी सेना ने इस फैसले को लेकर पीड़ा महसूस की है.

Next Story
Share it