Top
undefined

पाकिस्तान में 2 और हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण कर कराया गया निकाह

पाकिस्तान में 2 और हिंदू लड़कियों का जबरन धर्मांतरण कर कराया गया निकाह
X

पेशावर। पाकिस्तान में इमरान सरकार के शासन में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं। अल्पसंख्यकों द्वारा उठाए गए गंभीर चिंताओं और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं द्वारा आलोचना के बावजूद पाक में दो और हिंदू लड़कियों को जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हिंदू लड़की एकता कुमारी का कुख्यात मुस्लिम धर्मगुरु मियां अब्दुल खालिक (उर्फ मियां मिट्ठू या मिठू) जिसे पाकिस्तान की सेना का करीबी माना जाता है, द्वारा जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया है। बलूचिस्तान के सिबी की रहने वाली एकता कुमारी पेशे से शिक्षक हैं।

सूत्रों के अनुसार अनिल कुमार की बेटी एकता का कथित तौर पर सिबी में रहने वाले मुस्लिम यार मोहम्मद भट्टो ने अपहरण कर लिया था। भुट्टो ने एकता को पाकिस्तान के सिंध प्रांत के घोटकी जिले के धाराकी में दरगाह-ए-आलिया भरचुंडी शरीफ की यात्रा करने के लिए मजबूर किया जहां उन्हें मियां मिट्ठू द्वारा इस्लाम में परिवर्तित कर दिया गया था और उन्हें 'आयशा' के रूप में नामित किया गया था और भुट्टो से शादी की। दूसरी इस्लाम धर्म अपनाने के लिए मजबूर करने वाली हिंदू लड़की का नाम धानी कोहलाही है। धानी कोहलाही का जुमा बाजार से अपहरण कर लिया गया और उसे भी इस्लाम में परिवर्तित कर मुस्लिम व्यक्ति से शादी कर दी गई।

सूत्रों ने कहा, "उसके ठिकाने का पता अभी तक उसके माता-पिता को नहीं चला है और पुलिस ने भी आरोपियों के खिलाफ अपनी प्राथमिकी दर्ज नहीं की है।" पाकिस्तान का हिंदू समुदाय दो दिनों में दो हिंदू लड़कियों की कथित रूप से जबरन धर्मांतरण की घटनाओं के बाद अल्पसंख्यक समुदाय सदमे और निराशा में उनका कहना है कि इमरान खान सरकार के अल्पसंख्यक समुदायों को समान अधिकार देने के दावे खोखले साबित हो रहे हैं और अल्पसंख्यकों पर दिन ब दिन अच्याचार बढ़ते जा रहे हैं। दोनों मामलों में स्थानीय पुलिस या प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

बता दें कि मियां मिट्ठू सिंध प्रांत के घोटकी जिले में प्रभावशाली भरचुंडी दरगाह (इस्लामिक सूफी मंदिर) के पीर (प्रमुख) हैं। मौलवी, जो एक शानदार जीवन शैली का नेतृत्व करता है और हमेशा सशस्त्र एस्कॉर्ट्स के साथ यात्रा करता है, 2008-2013 से पाकिस्तान की नेशनल असेंबली (MNA) का सदस्य रहा है जो 'उदारवादी' पीपीपी (पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी) का प्रतिनिधित्व करता है। बाद में उन्होंने पीएम इमरान खान की पीटीआई से हाथ मिलाया। मिठू ने पहले दावा किया है कि वह व्यक्तिगत रूप से 200 हिंदू लड़कियों का धर्जोमांतरण करवा चुका है। और वे स्वेच्छा से 'इस्लाम स्वीकार करने' के लिए उसके पास आई थीं।

Next Story
Share it