Top
undefined

3 मई के बाद केंद्र सरकार राहत देने के पक्ष में, जारी की गाइडलाइन कंटेनमेंट और हॉटस्पॉट एरिया में और होगी सख्ती

केंद्र सरकार कुछ इलाकों में लॉकडाउन से राहत देने के मूड में है, लेकिन कंटेनमेंट और हॉटस्पॉट एरिया में सख्ती को और बढ़ाने का भी फैसला किया गया है. इस बारे में केंद्र ने राज्यों को एक गाइडलाइन जारी की है.

3 मई के बाद केंद्र सरकार राहत देने के पक्ष में, जारी की गाइडलाइन कंटेनमेंट और हॉटस्पॉट एरिया में और होगी सख्ती
X


नई दिल्ली। कोरोना संकट के कारण लगाए गए लॉकडाउन का दूसरा चरण 3 मई को पूरा हो रहा है. लोगों को उम्मीद है कि 3 मई के कारण कुछ इलाकों में राहत मिलेगी. केंद्र सरकार भी राहत देने के मूड में है, लेकिन कंटेनमेंट और हॉटस्पॉट एरिया में सख्ती को और बढ़ाने का भी फैसला किया गया है. इस बारे में केंद्र ने राज्यों को एक गाइडलाइन जारी की है.

गृह मंत्रालय की ओर से कंटेनमेंट जोन के लिए नया एसओपी जारी किया गया है. इसके मुताबिक, कंटनेमेंट जोन अब कोरोना के मामलों और उसके संपर्क में आए लोगों की मैपिंग, संक्रमितों और उनके संपर्क में आए लोगों के भौगोलिक फैलाव पर आधारित होना चाहिए. हॉटस्पॉट के हर घर में अभियान चलाकर संक्रमितों की तलाश की जानी चाहिए.

कंटेनमेंट एरिया में सैम्पलिंग गाइडलाइन के निर्देशों का पालन करके संक्रमित मरीजों की टेस्टिंग की जाएगी. इसके साथ ही संपर्क में आए लोगों की भी टेस्टिंग की जाएगी. कंटेनमेंट जोन में एंट्री और एग्जिट प्वाइंट होना चाहिए. जोन में किसी को भी घूमने की इजाजत नहीं मिलनी चाहिए. मेडिकल इमरजेंसी या आवश्यक सामानों की आपूर्ति को छोड़कर.

इस बीच लॉकडाउन पर सरकार के अगले फैसले का इंतजार है, लेकिन राहत की खबर ये है कि सरकार ने छूट के इरादे से इलाकों को तीन जोन में बांटा दिया है. संक्रमण के असर को देखकर ही छूट या पाबंदी तय होगी. नई लिस्ट के मुताबिक, देश के 130 जिले रेड जोन में है. 284 जिले ऑरेंज जोन में और 319 जिले ग्रीन जोन में हैं.

हम आपको बता दें, दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, हैदराबाद, बैंगलुरु, अहमदाबाद जैसे मेट्रो शहर रेड जोन में है. महाराष्ट्र में 14 जिले, दिल्ली में सभी जिले रेड जोन के दायरे में है. तमिलनाडु में 12, यूपी में 19, पश्चिम बंगाल में 10 जिले, गुजरात और एमपी में 9 जिले और राजस्थान में 8 जिले रेड जोन में है.

Next Story
Share it
Top