Top
undefined

साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद पर बहाल करने का आदेश

अपीलीय न्यायाधिकरण ने सायरस मिस्त्री को दोबारा टाटा संस के एग्जिक्यूटिव पद पर बहाल करने का आदेश दिया, एन चंद्रशेखरन के इस पद पर नियुक्ति को गैरकानूनी बताया, न्यायाधिकरण ने कहा कि बहाली आदेश चार सप्ताह बाद अमल में आएगा

साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद पर बहाल करने का आदेश
X

नई दिल्ली .नैशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल ने साइरस मिस्त्री को टाटा सन्स के एग्जिक्युटिव चेयरमैन के पद पर बहाल करने का आदेश दिया है। ट्राइब्यूनल ने कहा कि मिस्त्री फिर से टाटा संस के एग्जिक्युटिव चेयरमैन नियुक्त किए जाएं। साथ ही, उसने एन. चंद्रशेखरन के इस पद पर नियुक्ति को गैरकानूनी बताया। हालांकि, न्यायाधिकरण ने कहा कि बहाली आदेश चार सप्ताह बाद अमल में आएगा। टाटा संस को अपील करने के लिए यह समय दिया गया है।

ट्राइब्यूनल के दो सदस्यीय बेंच ने यह फैसला सुनाया है। ट्राइब्यूनल में यह याचिका मिस्त्री और दो इन्वेस्टमेंट फर्म की तरफ से दाखिल की गई थी। जुलाई में अपीलेट ने फैसला सुरक्षा रख लिया था। साइरस मिस्त्री टाटा सन्स के छठे चेयरमैन थे और उन्हें इस पद से अक्टूबर 2016 में हटा दिया गया था। रतन टाटा के बाद उन्होंने 2012 में चेयरमैन का पदभार ग्रहण किया था।

एनसीएलएटी के फैसले पर साइरस मिस्त्री ने कहा, 'न्यायाधिकरण ने आज जो फैसला दिया है, वह न सिर्फ मेरी व्यक्तिगत जीत है, बल्कि गुड गवर्नेंस के सिद्धांतों तथा अल्पांश हिस्सेदारों (माइनॉरिटी शेयरहोल्डर) के अधिकारों की जीत है। मेरी अपील पर न्यायाधिकरण का फैसला मेरे रुख की पुष्टि करता है।'

टाटा परिवार से बाहर के दूसरे चेयरमैन थे मिस्त्री

उल्लेखनीय है कि टाटा संस के निदेशक मंडल ने 24 अक्टूबर, 2016 को एक हैरान करने वाला कदम उठाते हुए मिस्त्री को चेयरमैन पद से बर्खास्त कर दिया था। वह दिसंबर, 2012 में टाटा संस के चेयरमैन बने थे। समूह के 150 साल के इतिहास में मिस्त्री चेयरमैन बनने वाले टाटा परिवार से बाहर के दूसरे व्यक्ति थे। उनके पहले 1934-38 के दौरान टाटा समूह से बाहर के नवरोजी सकलतवाला समूह के चेयरमैन थे।

Next Story
Share it
Top