Top
undefined

कोरोना के डर से गांववालों ने सीमाएं सील कीं, नक्सली बड़ी-बड़ी बैठकों के जरिए लोगों से नजदीकियां बढ़ा रहे

लॉकडाउन का फायदा उठाकर नक्सलियों ने टीसीओसी को तेज कर दिया है; नक्सल प्रभावित गांवों में सोशल डिस्टेंसिंग पर ध्यान न के बराबर

कोरोना के डर से गांववालों ने सीमाएं सील कीं, नक्सली  बड़ी-बड़ी बैठकों के जरिए लोगों से नजदीकियां बढ़ा रहे
X

दंतेवाड़ा. दंतेवाड़ा में नक्सली कोरोनावायरस को एक मौके की तरह देख रहे हैं। ये लोग इलाके के गांवों में महामारी का डर जगाकर अपनी पैठ जमा रहे हैं। गांववालों को शहरी इलाकों में जाने और बाहर से किसी को आने देने पर पाबंदी लगाने को कहा जा रहा है। नक्सलियों के कहने पर ग्रामीणों ने ज्यादातर गांवों को सील कर दिया है। न किसी को गांव में आने की इजाजत है और न ही किसी को गांव से बाहर जाने की। इसी के साथ सुरक्षाबलों पर हमले करने के लिए इनका टेक्निकल काउंटर ऑफेनसिव कैंपेन (टीसीओसी) भी इन दिनों तेज हो गया है। बस्तर में पड़ोसी राज्यों के नक्सलियों की आवाजाही रहती है। देश में कोरोनावायरस के फैलाव से पहले ही नक्सलियों का हर साल खास दिनों में चलने वाला टीसीओसी शुरू हो चुका था। पुलिस के खुफिया विभाग के सूत्र बताते हैं कि कोरोना के पहले ही आंध प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र के नक्सली बस्तर में आ चुके थे। अभी बाहरी नक्सलियों की आवाजाही तो नहीं है, लेकिन पहले से मौजूद नक्सली सोशल डिस्टेंसिंग की बजाय गांवों में सोशल नजदीकियां बढ़ा रहे हैं। नक्सली टीसीओसी के टास्क को पूरा करने के लिए गांव-गांव जाकर बैठकें ले रहे हैं। ये सड़के काट रहे हैं, पर्चे फेंक रहे हैं और साथ ही छुटपुट घटनाओं को भी अंजाम दे रहे हैं। ऐसी भी खबरें हैं कि लॉकडाउन का फायदा उठाकर नक्सली कई इलाकों में पुलिस जवानों पर हमले की योजना बना चुके हैं।

गांववालों को नक्सलियों और कोरोनावायरस से बचाने के लिए ऑपरेशन भी चल रहे हैं

बस्तर आईजी पी सुंदरराज का कहना है कि, "यहां बड़े कैडर के नक्सलियों ने खुद को जंगल में ही आइसोलेट कर रखा है, जबकि निचले कैडर के नक्सलियों को वे इस महामारी के बारे में ज्यादा नहीं बता रहे। उन्हें डर है कि संक्रमण से फैलने वाली इस बीमारी के बारे में जानकर ये लोग अपने घर भाग सकते हैं। नक्सलियों के पास मास्क, सेनेटाइजर और साबुन भी होते हैं लेकिन ये बस टॉप कैडर के पास ही रहते हैं।" सुंदरराज बताते हैं कि, "लॉकडाउन का फायदा उठाकर ये लोग रोड़ काटने, बैठकें लेने और गांववालों को बहकाने जैसे काम में लगे हुए हैं। हमें सबसे ज्यादा फिक्र इस बात की है कि नक्सली बाहर आते जाते रहते हैं, अगर वे कोरोना संक्रमित निकले तो जिन गांवों में ये बैठकें कर रहे हैं, उन सभी गांवों को खतरा हो सकता है। हम सावधानी बरतकर गांववालों को नक्सलियों और कोरोनावायरस से बचाने के लिए ऑपरेशन संचालित कर रहे हैं।"

दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर के सरहदी इलाको के गांवों में बड़ी संख्या में नक्सली मौजूद

इन दिनों नक्सलियों का टीसीओसी चल रहा है। इलाके में नक्सलियों की अच्छी खासी तादाद इकट्ठा है। बड़ी संख्या में नक्सली गांवों में मौजूद हैं। यहां वे रणनीतियां बना रहे हैं। हाल ही में दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर के सरहदी इलाके के नदी पार के गांवों में बड़ी संख्या में नक्सलियों की जानकारी मिली है। गांवों में ये छोटी-बड़ी सभाएं कर रहे हैं। इन बैठकों में सोशल डिस्टेंसिंग पर कोई ध्यान नहीं रखा जा रहा, लोग झुंड बनाकर एक जगह बैठ रहे हैं। कुछ ही जगहों पर ऐसी सभाओं में सोशल डिस्टेंसिंग की बात सामने आई है। लॉक डाउन के कारण नक्सलियों का राशन सप्लाई चेन काम नहीं कर रहा है। ये लोग राशन की कमी से जूझ रहे हैं। ये राशन के लिए गांववालों पर दबाव भी बना रहे हैं।

Next Story
Share it
Top