Top
undefined

भारत-चीन के सैन्य अफसरों के बीच आज चर्चा होगी, दोनों देश बातचीत से ही मसला सुलझाने के पक्ष में

भारत की ओर से 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह बैठक में शामिल होंगे

भारत-चीन के सैन्य अफसरों के बीच आज चर्चा होगी, दोनों देश बातचीत से ही मसला सुलझाने के पक्ष में
X

नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख में सेनाओं के बीच तनाव खत्म करने पर भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच आज फिर बातचीत होगी। बताया जा रहा है कि यह बैठक चीन के मोल्डो में रखी गई है। इसमें भारत की ओर से 14 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीन की ओर से मेजर जनरल लियू लिन शामिल होंगे। लियू साउथ झिंनझियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर हैं। इससे पहले शुक्रवार शाम दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों के अफसरों के बीच बातचीत हुई। दोनों न्यूज एजेंसी को सूत्रों ने बताया कि दोनों ही देशों का मानना है कि मतभेदों को शांतिपूर्ण बातचीत से ही हल करना चाहिए।

मिलिट्री और डिप्लोमैटिक चैनल के जरिए बातचीत जारी

इस बीच, शुक्रवार को चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि अभी सीमा पर भारत-चीन के बीच हालात स्थिर और नियंत्रित करने लायक हैं। हमारे पास सीमा से जुड़े मुद्दों के लिए पूरा मैकेनिज्म है। हम सैन्य और कूटनीतिक तरीके से भी बातचीत जारी रखते हैं। हम इस मामले को अच्छी तरह से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

तनाव कम करने के लिए भारत के पास विस्तृत प्रस्ताव

सूत्रों के मुताबिक, भारत चीन के सामने पेंगॉन्ग सो, गलवान घाटी और डेमचोक में दोनों सेनाओं के बीच तनाव को कम करने के लिए खास प्रस्ताव पेश करेगा। पिछले एक महीने से इन्हीं इलाकों में दोनों देशों की सेनाओं के बीच टकराव सामने आ रहा है। माना जा रहा है कि भारत चीन से इस इलाके में जो स्थिति पहले रही है वही बनाए रखने की पेशकश करेगा। हालिया तनाव को लेकर अब तक दोनों देशों के बीच 10 बार बातचीत हो चुकी है। यह बातचीत लोकल कमांडर स्तर पर और मेजर जनरल रैंक के अफसरों तक के बीच में हुई है। हालांकि, अभी तक इन चर्चाओं का कोई सकारात्मक नतीजा नहीं निकला है।

मई में दोनों सेनाओं के बीच तीन बार झड़प हुई

भारत और चीन के सैनिकों के बीच इस महीने तीन बार झड़प हो चुकी है। इन घटनाओं पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि भारतीय सैनिक अपनी सीमा में ही गतिविधियों को अंजाम देते हैं। भारतीय सेना की लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के पार एक्टिविटीज की बातें सही नहीं हैं। वास्तव में यह चीन की हरकतें हैं, जिनकी वजह से हमारी रेगुलर पेट्रोलिंग में रुकावट आती है।

Next Story
Share it
Top