Top
undefined

नई शिक्षा नीति: राज्यपालों के सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- यह सरकार की नहीं शिक्षा की नीति है

सरकार ने जुलाई में राष्ट्रीय शिक्षा नीति का ऐलान किया था

नई शिक्षा नीति: राज्यपालों के सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- यह सरकार की नहीं शिक्षा की नीति है
X

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर राज्यपालों के सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ये शिक्षा नीति, सरकार की शिक्षा नीति नहीं है। ये देश की शिक्षा नीति है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जैसे विदेश नीति देश की नीति होती है, रक्षा नीति देश की नीति होती है, वैसे ही शिक्षा नीति भी देश की ही नीति है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, देश की आकाक्षाओं को पूरा करने का महत्वपूर्ण माध्यम शिक्षा नीति और शिक्षा व्यवस्था होती है। शिक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी से केंद्र , राज्य सरकार, स्थानीय निकाय, सभी जुड़े होते हैं। लेकिन ये भी सही है कि शिक्षा नीति में सरकार, उसका दखल, उसका प्रभाव, कम से कम होना चाहिए। उन्होंने कहा, शिक्षा नीति से जितना शिक्षक, अभिये शिक्षा नीति, सरकार की शिक्षा नीति नहीं है। ये देश की शिक्षा नीति है।भावक जुड़े होंगे, छात्र जुड़े होंगे, उतना ही उसकी प्रासंगिकता और व्यापकता, दोनों ही बढ़ती है। देश के लाखों लोगों ने, शहर में रहने वाले, गांव में रहने वाले, शिक्षा क्षेत्र से जुड़े लोगों ने, इसके लिए अपना फीडबैक दिया था, अपने सुझाव दिए थे। पीएम मोदी ने कहा, गांव में कोई शिक्षक हो या फिर बड़े-बड़े शिक्षाविद, सबको राष्ट्रीय शिक्षा नीति, अपनी शिक्षा शिक्षा नीति लग रही है। सभी के मन में एक भावना है कि पहले की शिक्षा नीति में यही सुधार तो मैं होते हुए देखना चाहता था। ये एक बहुत बड़ी वजह है राष्ट्रीय शिक्षा नीति की स्वीकारता की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, आज दुनिया भविष्य में तेजी से बदलते नौकरी, काम की प्रकृति को लेकर चर्चा कर रही है। ये पॉलिसी देश के युवाओं को भविष्य की आवश्यकताओं के मुताबिक ज्ञान और कौशल दोनों मोर्चों पर तैयार करेगी। नई शिक्षा नीति, स्टडींग के बजाय लर्निंग पर फोकस करती है और करिकुलम से और आगे बढ़करक्रिटिकल थिंकिंग पर ज़ोर देती है। इस पॉलिसी में प्रोसेस से ज्यादा पैशन, प्रैक्टिकैलिटी और परफॉर्मेंस पर बल दिया गया है। प्रधानमंत्री ने कहा, लंबे समय से ये बातें उठती रही हैं कि हमारे बच्चे बैग और बोर्ड एग्ज़ाम के बोझ तले, परिवार और समाज के दबाव तले दबे जा रहे हैं। इस पॉलिसी में इस समस्या को प्रभावी तरीके से संबोधित किया गया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में हमारे सही मायने में बिना दबाव के, बिना अभाव और बिना प्रभाव के सीखने के लोकतांत्रिक मूल्यों को हमारी शिक्षा व्वयस्था का हिस्सा बनाया गया है।

नई नीति में नॉलेज पर फोकस

सरकार ने जुलाई में नई शिक्षा नीति की घोषणा की थी। 34 साल बाद एजुकेशन पॉलिसी को बदला गया है। नई नीति में स्कूल एजुकेशन और हायर एजुकेशन को लेकर बड़े बदलाव किए गए हैं। सभी स्कूलों में कक्षा पांचवीं तक के बच्चों को अब मातृ भाषा या क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाया जाएगा। नई नीति में नॉलेज पर फोकस करते हुए देश को ग्लोबल सुपरपावर बनाने पर जोर दिया गया है।

Next Story
Share it
Top