Top
undefined

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा- सभी पक्षों को शामिल कर कमेटी बनानी चाहिए

पिटीशनर की दलील- किसानों के सड़कें घेरने से जनता परेशान, कोरोना फैलने का भी खतरा सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों से जवाब मांगा, किसानों को भी पार्टी बनाने की इजाजत

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा- सभी पक्षों को शामिल कर कमेटी बनानी चाहिए
X

नई दिल्ली, कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को सड़कों से हटाने की अर्जियों पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि सरकार, किसान संगठनों और दूसरे पक्षों को शामिल करते हुए एक कमेटी बनानी चाहिए, क्योंकि जल्द यह राष्ट्रीय मुद्दा बनने वाला है। ऐसा लगता है कि सिर्फ सरकार के स्तर पर यह सुलझने वाला नहीं। चीफ जस्टिस एस ए बोबडे की बेंच ने इस मामले की सुनवाई की। अदालत ने सॉलिसिटर जनरल से कहा कि प्रदर्शनकारी किसानों के साथ सरकार की बातचीत का अभी तक कोई साफ नतीजा नहीं निकला है।

किसानों को भी पार्टी बनाने की इजाजत, कल फिर सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्यों से जवाब मांगे हैं। कोर्ट ने किसानों को भी पार्टी बनाने की इजाजत दी है। कल फिर सुनवाई होगी। बुधवार को सुनवाई के दौरान एक पिटीशनर के वकील ने शाहीन बाग के मामले की दलील दी तो, चीफ जस्टिस ने कहा कि कानून-व्यवस्था से जुड़े मामले में कोई उदाहरण नहीं दिया जा सकता।

पिटीशनर्स की दलील- कोरोना का खतरा बढ़ रहा

किसानों के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में कई अर्जियां लगी हैं। पिटीशनर्स का कहना है कि किसान आंदोलन के चलते सड़कें जाम होने से जनता परेशान हो रही है। प्रदर्शन वाली जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग नहीं होने की वजह से कोरोना का खतरा भी बढ़ रहा है।

किसानों ने दिल्ली-नोएडा लिंक रोड ब्लॉक की

किसानों के आंदोलन का आज 21वां दिन है। किसान संगठनों ने आज दिल्ली और नोएडा के बीच चिल्ला बॉर्डर को पूरी तरह से ब्लॉक कर दिया। उधर, उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में कई खापों ने आंदोलन को समर्थन दिया है। ये खापें 17 दिसंबर को दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन में शामिल होंगी।

मोदी बोले- सरकार दूर करेगी किसानों की हर शंका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को गुजरात दौरे के संबोधन में कहा कि विपक्ष किसानों को गुमराह करने की साजिश कर रहा है। उन्हें डराया जा रहा है कि किसानों की जमीन पर दूसरे कब्जा कर लेंगे। यदि कोई डेयरी वाला दूध लेने का कॉन्ट्रैक्ट करता है तो क्या वह पशु को भी ले जाता है? उन्होंने भरोसा दिलाया कि सरकार हर शंका के समाधान को तैयार है। मोदी ने गुजरात में सिख संगठनों से भी मुलाकात की।

सांसद सनी देओल को ङ्घ कैटेगरी की सुरक्षा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पंजाब के गुरदासपुर से भाजपा सांसद सनी देओल को ङ्घ कैटेगरी की सुरक्षा दे दी गई है। उन्होंने हाल ही में कृषि कानूनों का समर्थन किया था। 6 दिसंबर को उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा था कि यह सरकार और किसानों के बीच का मामला है। इसका बातचीत के जरिए निकाल लिया जाएगा। मैं पार्टी और किसानों के साथ खड़ा हूं। मैं हमेशा किसानों के साथ खड़ा रहूंगा। हमारी पार्टी ने हमेशा किसानों के भले के लिए ही काम किया है।

Next Story
Share it