Top
undefined

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 101 मामले सामने आए, पूर्वाेत्तर राज्य मणिपुर में पहले मामले की पुष्टि

आंध्र प्रदेश में विदेशों से लौटने के बाद ट्रैवल हिस्ट्री छिपाने वाले लोगों की पहचान होगी, मेडिकल टीमें घर-घर जाकर जांच करेंगी

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 101 मामले सामने आए, पूर्वाेत्तर राज्य मणिपुर में पहले मामले की पुष्टि
X

नई दिल्ली. देश में कोरोनावायरस संक्रमितों की संख्या 508 हो गई, जबकि 9 लोगों की मौत हो चुकी हैं। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 101 मामलों की पुष्टि हुई। दूसरे नंबर पर केरल (95) है। वहीं, मंगलवार को मणिपुर में संक्रमण का पहला मामला सामने आया। 23 वर्षीया संक्रमित लड़की हाल ही में ब्रिटेन से लौटी थी। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने पूरी तरह लॉकडाउन की घोषणा की है। 5 राज्यों में कर्फ्यू लगाया गया है। देशभर में लॉकडाउन और कर्फ्यू लागू करवाने के लिए पुलिस सड़कों पर है। पुलिस बैरिकेडिंग कर सिर्फ जरूरी कामों के लिए लोगों को आने जाने की इजाजत दे रही है। दिल्ली में सोमवार को लॉकडाउन के पहले दिन उल्लंघन करने 1012 लोगों पर केस दर्ज किए गए। इस बीच आंध्र प्रदेश सरकार ने कहा है कि विदेश से लौटे लोगों की पहचान के लिए मेडिकल टीमें लोगों के घर जाकर उनकी जांच करेगी। तीन राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और ओडिशा ने अपने कई शहरों को लॉकडाउन किया है। देश के 577 जिले इस दायरे में आते हैं। वहीं, महाराष्ट्र, पंजाब, पुडुचेरी और राजस्थान में कर्फ्यू लगाने की घोषणा की गई है। मध्य प्रदेश के भोपाल और जबलपुर में सोमवार आधी रात से कर्फ्यू लागू कर दिया गया है।

कजाखस्तान में फंसे भारतीय छात्रों ने वहां से निकालने का आग्रह किया

कजाखस्तान में फंसे भारतीय छात्रों ने अधिकारियों से वापस निकालने का आग्रह किया है। वहां पढ़ने वाले भारतीय छात्रों ने कहा कि वे मौजूदा स्थिति के कारण फंस गए हैं, क्योंकि उनकी बुक की गई उड़ानें रद्द हो गई हैं। छात्र एयरपोर्ट के पास ही किराए के घर में रह रहे हैं, क्योंकि उनका हॉस्टल एयरपोर्ट से बहुत दूर है।

लोग लॉकडाउन के बीच जरूरी चीजें खरीदने बाहर निकले

लॉकडाउन के बीच मंगलवार सुबह लोग पंजाब और उत्तर प्रदेश में जरूरी चीजें खरीदने बाहर निकले। कुछ लोगों ने कहा कि सरकार को जरूरी चीजें खरीदने के लिए समय तय करना चाहिए, जिससे लोगों को दिक्कत न हो। वहीं केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को निर्देश दिया कि लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराएं। इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। इस बीच ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) और इसके सभी केंद्रों में ओपीडी सेवाएं अगले आदेश तक बंद कर दीं। मंगलवार रात 12 बजे से देश में सभी घरेलू उड़ानें बंद कर दी जाएंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सोमवार को दोबारा अपील की थी कि लॉकडाउन को लोग गंभीरता से लें।

आंध्रप्रदेश में ट्रैवल हिस्ट्री छुपाने वालों की पहचान होगी

आंध्र प्रदेश सरकार ने ट्रैवल हिस्ट्री छुपाने वाले लोगों की पहचान करने के लिए मुहिम शुरू की है। इसके तहत कर्मचारी घर-घर जाकर विदेशों से लौटे लोगों को पता लगाएंगे। राज्य में 2.5 लाख वॉलंटियर्स को यह जिम्मेदारी दी गई है। हर वॉलंटियर को औसतन 50 घर सौंपे गए हैं। इस तरह एक करोड़ 38 लाख घरों की स्क्रीनिंग होगी। इस कैम्पेन से सरकार को विदेश से लौटे 10 हजार लोगों की पहचान करने में मदद मिलेगी। बाहर से आए लोगों में अभी 140 में कोरोनावायरस के लक्षण सामने आए हैं। 9860 लोगों की पहचान होना बाकी है। यह लोग 10 फरवरी के बाद आने वालों में शामिल हैं। सरकार इस अभियान का दायरा बढ़ा रही है। इसके तहत वॉलिंटियर्स को प्रत्येक घर तक जाकर पता लगाने की जिम्मेदारी दी गई है।

Next Story
Share it
Top