Top
undefined

निर्वाचित मुखिया के रूप में नरेंद्र मोदी के 20 साल पूरे, 2001 में बने थे गुजरात के सीएम, बतौर पीएम 7वां साल

गुजरात मॉडल की कामयाबी के बाद मोदी को भाजपा ने 2013 में पीएम पद का उम्मीदवार बनाया। नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर पहला कार्यकाल 7 अक्तूबर 2001 को शुरू किया था।

निर्वाचित मुखिया के रूप में नरेंद्र मोदी के 20 साल पूरे, 2001 में बने थे गुजरात के सीएम, बतौर पीएम 7वां साल
X

नई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को चुनी हुई सरकार के मुखिया के रूप में 20वें साल में प्रवेश कर लिया है। मोदी ने 2001 में उस वक्त गुजरात की कमान संभाली थी, जब गुजरात के भुज में भीषण भूकंप आया था। गुजरात मॉडल की कामयाबी के बाद मोदी को भाजपा ने 2013 में पीएम पद का उम्मीदवार बनाया। नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर पहला कार्यकाल 7 अक्तूबर 2001 को शुरू किया था। इसके बाद राजकोट से चुनाव लड़ा। जिसमें जनता ने उन पर विश्वास जताया और प्रदेश की बागडोर सौंप दी। खास बात यह है कि नरेंद्र मोदी ने भगवद्गीता की शपथ लेकर मुख्यमंत्री पद की कुर्सी संभाली थी। लगातार चार बार गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए राज्य को विकास की दिशा में अग्रसर करने वाले मोदी की छवि एक अनुसान प्रिय और सख्त प्रशासक की रही है। उन्होंने प्रदेश में विकास के पहिये दौड़ाने के लिए कई नवाचार किए। प्रदेश में निवेश के लिए 'वायब्रेंट गुजरात' कार्यक्रम की शुरुआत की और निवेशकों को प्रदेश में आकर्षित किया। नरेंद्र मोदी की कोशिशों का असर था कि जल्द ही राज्य अग्रणी राज्यों की श्रेणी में आ गया। 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी ने प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषत किया। गुजरात के विकास मॉडल से होते हुए 21वीं सदी के नए भारत के विकास मॉडल को लेकर मोदी की परिकल्पना को मिला समर्थन 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत के रूप में सामने आया। पार्टी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड 282 सीटों पर विजय पताका फहरायी। मोदी के नेतृत्व में भाजपा को पहली बार पूर्ण बहुमत मिला। सत्ता में आने के बाद मोदी ने जनधन योजना, मुद्रा योजना, जन सुरक्षा योजना, उज्ज्वला योजना, उजाला योजना, पीएम आवास योजना, सौभाग्य योजना, भीम-यूपीआई योजना, आयुष्मान भारत और पीएम-किसान जैसे जनकल्याण कार्यक्रम चलाए। 2019 में जनता ने एक बार फिर मोदी पर विश्वास जताया और प्रचंड बहुमत देकर दोबारा सत्ता सौंपी। वह गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री के रूप में सबसे अधिक समय तक सत्ता संंभालने वाले पहले पीएम भी बने। इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी के नाम ये रिकॉर्ड दर्ज था। बंगाल के मुख्यमंत्री के रूप में ज्योति बसु ने 1977 से 2000 तक लगातार 22 सालों तक प्रदेश की कमान संभाली थी। उनके नाम सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री बने रहने का रिकॉर्ड है।

Next Story
Share it
Top