Top
undefined

133 अस्पताल, साढ़े 8 हजार डॉक्टर, 9 हजार बेड तैयार

नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह के मुताबिक, कोरोना से निपटने के लिए नौसेना के जहाज भी स्टैंडबाय पर

133 अस्पताल, साढ़े 8 हजार डॉक्टर, 9 हजार बेड तैयार
X

नई दिल्ली. देश में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इससे निपटने के लिए तीनों सेनाओं ने भी पुख्ता तैयारी की है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस संबंध में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग की। इसमें मौजूद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने कहा- सेना के अस्पतालों में 9 हजार से ज्यादा बेड उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि जैसलमेर, जोधपुर, चेन्नई, मानेसर, हिंडन और मुंबई में 1 हजार से ज्यादा लोगों को क्वारैंटाइन में रखा गया है। इसकी मियाद 7 अप्रैल को खत्म हो रही है। मार्च 2018 तक के आंकड़ों के मुताबिक, देशभर में सेना के 133 अस्पताल हैं। इनमें से 112 मिलिट्री, 12 एयरफोर्स और 9 नेवी के हैं। इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रक्षा मंत्री ने आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे, एयरफोर्स चीफ आरकेएस भदौरिया, नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह, आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल सर्विस के डीजी लेफ्टिनेंट जनरल अनूप बनर्जी और डीआरडीओ चेयरमैन डॉ. सतीश रेड्डी से भी बात की। डीआरडीओ के चेयरमैन डॉ. डीजी सतीश रेड्डी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को बताया कि डीआरडीओ लैब में बनाए गए 50 हजार लीटर सैनिटाइजर दिल्ली पुलिस समेत अलग-अलग सुरक्षा बलों को सप्लाई किए गए हैं। इसके अलावा, 1 लाख लीटर सैनिटाइजर देशभर में सप्लाई हुआ। उन्होंने बताया कि अभी रोज 10 हजार पांच लेयर वाले नैनो टेक्नोलॉजी फेस मास्क एन-99 बनाए जा रहे हैं और जल्द ही इसका प्रोडक्शन बढ़ाकर रोजाना 20 हजार किया जाएगा। डीआरडीओ ने 40 हजार फेस मास्क दिल्ली पुलिस को दिए हैं। डॉ. रेड्डी ने बताया कि हमारी एक लैब में रोज 20 हजार पीपीई यानी पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट बनाए जा रहे हैं। इसके साथ ही एक ऐसा वेंटिलेटर भी बनाने की तैयारी है, जो एक समय में 4 मरीजों को सपोर्ट कर सके।

Next Story
Share it
Top