Top
undefined

सर्द मौसम में सर्दी, खांसी परेशान कर रही हैं तो भाप लें, जानिए भाप लेने का सही तरीका

सर्द मौसम में सर्दी, खांसी परेशान कर रही हैं तो भाप लें, जानिए भाप लेने का सही तरीका
X

नई दिल्ली। सर्द मौसम ने पूरी तरह दस्तक दे दी है। पारा दिनो दिन गिरता जा रहा है और कम पारे की वजह से लोगों को खांसी-जुकाम और फ्लू की समस्याएं ज्यादा हो रही है। आप जानते हैं सर्दी, खांसी और जुकाम का सबसे ज्यादा असरदार इलाज गर्म पानी की भांप है। गर्म पानी की भांप से आप बिना दवा के भी सर्दी खांसी को ठीक कर सकते हैं। गर्म पानी की भाप लेना एक चिकित्सीय तरीका है, इससे नाक और गले के माध्‍यम से फेफड़ों तक गर्म हवा पहुंचती है, जो सर्दी में काफी राहत देती है। गर्म भाप से बंद नाक खुल जाती है और सांस लेने में दिक्कत नहीं होती है।

इतना ही नहीं भाप लेने से शरीर का तापमान बढ़ता है जिसकी वजह से ब्लड वेसल का विस्तार होता है और रक्त संचार भी सुधरता है। आप जानते है कि भांप लेना भी एक कला है। अगर इसे सही तरीके से सही समय लिया जाए तो ये बेहद कारगर साबित होती है। आइए जानते हैं भाप कैसे और कब लें।

सर्दी-जुकाम के लिए इस तरह लें भाप

एक बर्तन में पानी लें और उसे तेज गर्म करें। आप भाप लेने के लिए भाप की मशीन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जब पानी तेज गर्म हो जाएं तो इस में विक्स मिला लें। अब तेज गर्म पानी के बर्तन के ऊपर अपने चेहरे को 30 सेंटीमीटर की दूरी पर रखें। सिर को टॉवेल से अच्छी तरह से ढंक लें और अब लंबे लंबे सांस लें। भाप आप कम से कम 5-10 मिनट तक लें, ताकि गर्म हवा आपके फेफड़ों तक पहुंच कर आपको सर्दी खासी और कफ से निजात दिलाएं।

भाप लेने के फायदे

सर्दी-जुकाम और कफ होने पर भाप लेना बेहद असरदार साबित होता है। भाप लेने से न केवल आपकी सर्दी ठीक होगी बल्कि गले में जमा हुआ कफ भी आसानी से निकल सकेगा और आपको किसी तरह की परेशानी नहीं होगी।

अस्थमा के मरीजों को लिए भाप लेने के बेहद फायदे है। भाप सीने से कफ को साफ करती है और सांस असानी से लेने में मदद करती है।

गले की खराश और सूजन को कम करती है भाप कोरोनाकाल में अपने आपको सर्दी खासी और ज़ुकाम से महफूज रखना है तो हफ्ते में तीन बार गर्म पानी की भाप लें।

भाप लेते समय इन बातों का रखें ख्याल

अगर स्टीम लेते समय आंखों में जलन या कोई और परेशानी हो रही है तो तुरंत टॉवेल हटा दें और भाप नहीं लें।

अगर आपको सर्दी-जुकाम में राहत मिल गई है तो ज्यादा भाप नहीं लें।

बच्चों, गर्भवती महिलाओं और अस्थमा के मरीजों को भाप लेते समय ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए।

Next Story
Share it
Top