Top
undefined

विदेश से लौटे यात्रियों को घर-घर जाकर खोज रहे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी

शहर के 85 वार्डो में 3-3 कर्मचारी लेंगे यात्रियों के स्वास्थ्य की जानकारी, सभी कोचिंग सेंटर को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिये

विदेश से लौटे यात्रियों को घर-घर जाकर खोज रहे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी
X

भोपाल, कोरोना को लेकर अब स्वास्थ्य विभाग ने शहर को सुरक्षित रखने अपने ढाई सौ कर्मचारियों को विदेश यात्रा से लौटे यात्रियों की खोज में लगा दिया है। रंगपंचमी के दिन शनिवार से इसकी शुरूआत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों ने रविवार को जेपी अस्पताल में कर्मचारियों की बैठक लेकर उन्हें दो महीने पहले विदेश यात्रा से लौटे लोगों की सेहत का हालचाल पूछकर सेल्फ डिक्लेरेशन फार्म भरायेंगे।

31 सेंपल में 26 की रिपोर्ट निगेटिव

कोरोना के 31 संदिग्ध मरीजों के सेंपल जांच के लिए एनआईवी पुणे, नागपुर, और एम्स भोपाल भेजे गये थे इनमें से 26 की जांच निगेटिव आई है। 5 मरीजों की रिपोर्ट आना बाकी है। 104 हेल्पलाइन पर अब तक 1085 कॉल कोरोना से संबंधित जानकारी के लिए आ चुके हैं। इस हेल्पलाइन पर कोरोना से बचाव के लिए जानकारी दी जा रही है।

कोचिंग सेंटर बंद

रविवार को एसडीएम ने शहर के सभी कोचिंग सेंटर को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिये हैं। एमपी नगर क्षेत्र के कोचिंग सेंटर में रोजाना लगने वाले छात्रों की भीड को कोरोना से बचाने के लिए प्रशासन ने ये आदेश जारी किये हैं।

हर वार्ड में 3 हेल्थ वर्कर्स की टीम करेगी सर्वे

जेपी अस्पताल में सीएमएचओ डॉ. सुधीर डेहरिया, जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. अखिलेश दुबे , जिला क्षय अधिकारी मनोज वर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी एनएचएम अनीता दुगाया की मौजूदगी में टीबी, लेप्रोसी, मलेरिया और राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के आयुष मेडिकल ऑफीसर्स की बैठक ली इसमें बताया गया कि शहर के 85 वार्डो में 3-3 कर्मचारियों को दो महीने पहले विदेश यात्रा से लौटे लोगों की सूची दी जा रही है। इन यात्रियों से स्व घोषणा पत्र और विगत 28 दिनों में स्वास्थ्य की जानकारी नाम पता मोबाइल नंबर, के साथ ही विदेश यात्रा से लौटकर कहां-कहां गये इसका ब्यौरा भी लिया जा रहा है। पिछले 14 दिनों में किन देशों की यात्रा की है और कोरोना से प्रभावित देश की यात्रा का विवरण भी दर्ज किया जायेगा।

कोरोना वायरस के कारण जन परिषद की कॉन्फ्रेंस स्थगित

कोरोना वायरस के कारण आगामी 17 मार्च से होने वाली तीन दिवसीय जन परिषद की पर्यावरण विषय पर केंद्रित आठवीं अन्तर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस को स्थगित कर दिया गया है। संस्था के अध्यक्ष एवं पूर्व पुलिस महा निदेशक एन के त्रिपाठी के अनुसार प्रतिवर्ष होने वाली इस प्रतिष्ठित कांफ्रेंस मे भारत ही नही विश्व के भिन्न भिन्न देशों से छात्र छात्राओं, रिसर्च स्कॉलर एवम् कई शैक्षणिक संस्थाओं के प्रतिनिधि एवं वैज्ञानिक अपने शोध पत्र प्रस्तुत करते हैं। कोरोना वायरस के फैलाव की रोकथाम हेतु लगभग सभी विभागों एवं मंत्रालयों के निर्देशों के चलते उक्त निर्णय लिया गया है।

Next Story
Share it