Top
undefined

कृषि मंत्री कमल पटेल का आरोप- कांग्रेस ने किसानों के साथ की धोखाधड़ी

कृषि मंत्री के मुताबिक मौजूदा शिवराज सरकार किसान हित में लगातार फैसले कर रही है। लेकिन पूर्व सरकार ने सिर्फ किसानों को ठगने का काम किया है और यही कारण है कि किसान कर्ज माफी का वचन देने के बाद भी पूरा नहीं किया गया।

भोपाल। प्रदेश में कोरोना संकट के बीच में किसान कर्ज माफी का मुद्दा गरम हो उठा है। प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने पूर्व सरकार के उस आदेश का हवाला देते हुए कहा है कि पूर्व कांग्रेस सरकार ने वचन पत्र में शामिल बिंदुओं को पूरा नहीं किया और किसानों के साथ धोखाधड़ी की है। तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने 10 दिन के अंदर 48 लाख किसानों का कर्जा माफ का ऐलान किया था। लेकिन सवा साल गुजरने के बाद भी किसानों की कर्ज माफी नहीं हो सकी। कई जगह पर किसानों को प्रमाण पत्र बांट दिए गए लेकिन आज तक उनका कर्ज माफ नहीं हुआ। ऐसे में कृषि मंत्री ने किसानों से कहा है कि वह इस धोखाधड़ी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री समेत कांग्रेस नेताओं के खिलाफ थानों में रिपोर्ट दर्ज कराएं। कृषि मंत्री के मुताबिक मौजूदा शिवराज सरकार किसान हित में लगातार फैसले कर रही है। लेकिन पूर्व सरकार ने सिर्फ किसानों को ठगने का काम किया है और यही कारण है कि किसान कर्ज माफी का वचन देने के बाद भी पूरा नहीं किया गया। ऐसे में किसान धोखाधड़ी के शिकार हुए हैं और अब किसान चाहे तो वह कांग्रेस नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा सकते हैं।

कांग्रेस ने बोला पलटवार

प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत कांग्रेस नेताओं के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले दर्ज कराने के बयान पर कांग्रेस भड़क उठी है। पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि पूर्व सरकार ने कैबिनेट में कर्जमाफी के प्रस्ताव पर मुहर लगाई थी और सरकार जाने से पहले किसानों के कर्ज माफी की प्रक्रिया को शुरू किया गया था। साथ ही सरकार ने किसान कर्ज माफी के अगले चरण की तारीखों का भी ऐलान कर दिया था। ऐसे में नई सरकार की जिम्मेदारी है कि पूर्व सरकार के कैबिनेट में हुए फैसले पर अमल किया जाए और किसानों के कर्ज माफी की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाए। यदि ऐसा नहीं होता है तो कांग्रेस इसका सड़कों पर उतरकर विरोध करेगी।

Next Story
Share it