Top
undefined

जरुरतमंद लोगों की मदद करने बढ़े हजारों हाथ

लॉक डाउन के कारण स्वैच्छिक रक्तदान शिविर आयोजित नहीं हो पाने के कारण ब्लड बैंक (ब्लड सेंटर) में खून की कमी को देखते हुए प्रशासन ने रक्तदान की अपील की है

भोपाल। शहर में तीन कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज एम्स में चल रहा है। शनिवार को एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। सेमरा में रेलवे गार्ड के संपर्क में आए अन्य लोगों की जांच रिपोर्ट आने की संभावना जताई जा रही है। रविवार को पुराने शहर की घनी बस्तियों को सैनिटाइज किया जा रहा है। वहीं लोग भी घर की साफ-सफाई और अपने-अपने घरों को सैनेटाइज कर रहे हैं। वहीं जरूरतमंद लोगों के लिए हजारों लोग मदद के लिए आगे आए हैं। लॉक डाइन के चलते प्रदेश की सभी ब्लड बैंकों में ब्लड की कमी हो गई है। सरकार ने लोगों से ब्लड बैंक पहुंच ब्लड डोनेट करने की अपील की है। रविवार की छुट्टी होने के कारण घरों में लोग अपने-अपने घरों को सैनिटाइज कर रहे हैं। कोरोना वायरस के चलते लोगों ने घर पर काम पर आने वाले लोगों को छुट्टी दे दी है। इसलिए घर का सारे काम खुद ही करना पड़ रहे हैं। रविवार होने के कारण आज लोग खुद ही अपने-अपने घर को सैनिटाइज कर रहे हैं। कई लोगों को घर का मैन गेट और उसका हैंडिल पौछते हुए देखा गया। वहीं नगर निगम द्वारा पूराने शहर की घनी बस्तियों को एक दिन छोड़कर आज फिर सैनिटाइज किया जा रहा है।

जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे आए लोग

शहर में हजारों लोग ऐसे हैं जिनके पास ना तो कोई काम है और ना ही खाने की व्यवस्था। इसमें फुटपाथ पर रहने वाले भी हजारों लोग है। शहरवासी और धार्मिक संस्थान ऐसे लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं। ये लोगों को भोजन के पैकेट वितरित कर रहे हैं। कुछ लोग दवाईया भी वितरित कर रहे हैं। वहीं शहर के पशु प्रेमी लोग जानवरों के भोजन का इंतजाम भी कर रहे हैं।

विदेश यात्रा से लाैटे 2605 रहवासी हाेम क्वारेंटाइन में

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने शहर के 2605 रहवासियों को होम क्वारेंटाइन में रखा है। होम क्वारेंटाइन में शहर में सबसे ज्यादा 187 लोग अरेरा कॉलोनी के हैं। वहीं 173 लोग कोहेफिजा और 162 कोलार के हैं। 114 लोग होशंगाबाद रोड की कॉलोनियों के रहवासी हैं। डॉक्टर्स की टीम को सभी की सेहत में हो रहे बदलावो की निगरानी रोजाना करने के निर्देश दिए हैं। ताकि कोरोना को स्टेज तीन (कम्युनिटी ट्रांसमिशन) में पहुंचने से रोका जा सके। प्रशासन ने यह फैसला कोरोना प्रभावित, प्रदेश और शहरों से आए लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री की स्टडी करने के बाद लिया है। इसकी पुष्टि संभागायुक्त ने की है।

जरूरतमंदों को ब्लड देने पहुंच रहे डोनर

लाॅकडाउन की वजह से ब्लड बैंक में पहुंचकर लोग ब्लड डोनेट कर रहे हैं। इस संकट की घड़ी में इंसानियत को सहेजने के लिए युवाओं ने वाॅट्सएप ग्रुप बनाए हैं। इन ग्रुप का कहना है कि आपात के समय किसी को भी ब्लड की जरूरत हो तो एक कॉल करें। इसमें यूथ ब्रिगेड ग्रुप, जीवन सार्थक ग्रुप और सिंधु सेना ने अपने नंबर जारी किए हैं। कॉल आते ही ग्रुप से जुड़े लोग ब्लड डोनेट करने पहुंच रहे हैं। शहर में हर दिन 450 यूनिट ब्लड की जरूरत है। वह भी इस समय जब कई ऑपरेशन नहीं हो रहे है। शहर में गर्भवती महिलाएं, कैंसर मरीज सहित खून की कमी से जूझ रहे लोगों को ब्लड की जरूरत है। हमीदिया अस्पताल के ब्लड बैंक में इस समय 40 यूनिट ब्लड है। वहीं अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में वर्तमान में 13 यूनिट ब्लड है। ब्लड बैंक प्रभारियों का कहना है कि लोगों को जरूरत के हिसाब से ब्लड दिया जा रहा है।

रक्तदान की अपील...

कलेक्टर को आम नागरिकों से जिले के शासकीय ब्लड बैंक में अपाइंटमेंट लेकर स्वैच्छिक रक्तदान के लिए अपील करना होगी। लॉक डाउन के कारण स्वैच्छिक रक्तदान शिविर आयोजित नहीं कर पाने के कारण ब्लड बैंक (ब्लड सेंटर) में खून की कमी को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। इधर, कलेक्टर कोरोना के संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान और क्लस्टर कंटेनमेंट प्लान बनाएंगे। राज्य स्तर पर डॉ. सौरभ पुरोहित को नोडल अधिकारी बनाया गया है। इनका मोबाइल नंबर 9753776544 है।

24 वस्तुएं आवश्यक वस्तुओं की सूची में

चावल, गेहूं आटा, चना दाल, तुअर दाल, उड़द दाल, मूंग दाल, मसूर दाल, शकर, दूध, मूंगफली तेल, सरसों तेल, वनस्पति, सोया तेल, सूरजमुखी तेल, पामतेल, गुड, चायपत्ती, नमक, आलू, प्याज और टमाटर आदि। इसके साथ ही 30 जून तक के लिए मास्क और हेंड सैनिटाइजर को भी शामिल किया गया है।

Next Story
Share it