Top
undefined

खजुराहो में कोरोना के भय से घरों में दुबके विदेशी मेहमान

नियमानुसार 'होम स्टे' में रूके सैलानियों की सूचना पुलिस को देना होती है लेकिन कई बार ऐसा नहीं भी हो पाता।

खजुराहो में कोरोना के भय से घरों में दुबके विदेशी मेहमान
X

भोपाल, मध्य प्रदेश में विश्व विरासत, प्रमुख पर्यटन स्थल और मंदिरों के लिए मशहूर खजुराहो इन दिनों कोरोना की दहशत से कफ्र्यू के साए में है। यहां इटली, जापान, रूस, बेल्जियम और अमेरिका सहित अन्य देशों से आने वाले पर्यटकों के चलते कोरोना का खतरा बना हुआ है। नगर और गांवों के घरों में पेइंग गेस्ट के बतौर रहने वाले विदेशियों को पुलिस तलाश रही है। उल्लेखनीय है कि खजुराहो में कई लोगों की आजीविका विदेशी मेहमानों से ही चल रही है। नियमानुसार 'होम स्टे' में रूके सैलानियों की सूचना पुलिस को देना होती है लेकिन कई बार ऐसा नहीं भी हो पाता। उन्हें ठहराने, घुमाने फिराने से मिलने वाले कमीशन के लालच में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने उन्हें स्थिति सामान्य होने तक मदद कर दी हो।

33 विदेशी सैलानी ढूंढ निकाले

प्रशासन ने करीब 33 विदेशी सैलानियों को ढूंढकर निकाला और उनकी जांच कराई है। बताया जाता है कि बेल्जियम के ये सैलानी करीब डेढ़ महीने पहले इस क्षेत्र में आए थे, जहां उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई। इन्हें दिल्ली स्थित दूतावास भेजने की तैयारी है।

सांची में नहीं हैं विदेशी

उधर, रायसेन के कलेक्टर उमाशंकर भार्गव का कहना है कि होली के बाद सांची में विदेशी पर्यटकों का आना न के बराबर रहा। अभी वहां कोई विदेशी नहीं है। प्रदेश में खजुराहो और बौद्घ तीर्थ सांची यूनेस्को से विश्व विरासत घोषित हैं। दोनों जगह विदेशी पर्यटक ज्यादा संख्या में आते हैं। शीलेंद्र सिंह (कलेक्टर जिला छतरपुर, मध्य प्रदेश) ने कहा कि खजुराहो में विदेशी सैलानी ज्यादा आते हैं। हाल ही में प्रशासन ने 33 विदेशियों की जांच कराई, उनके संपर्क में आए टैक्सी ड्राइवरों का भी परीक्षण कराया गया। कोरोना पॉजिटिव कोई नहीं मिला, हमने खजुराहो में क‌र्फ्यू लगाकर रखा है। ऐसे लोगों पर हम निगरानी बनाए हुए हैं।

Next Story
Share it