Top
undefined

कोरोना के कारण पका हुआ मध्यान्ह भोजन बंद, फिलहाल बच्चों को मिलेगा राशन

किसी का कोटा काटा नहीं जाएगा, बल्कि स्कूलों में दर्ज शत-प्रतिशत छात्र छात्राओं को ये राशन बंटेगा। प्राथमिक शाला में दर्ज प्रति छात्र छात्राओं को 3300 ग्राम और माध्यमिक शाला के छात्र.छात्राओं को 4950 ग्राम राशन दिया जाएगा।

कोरोना के कारण पका हुआ मध्यान्ह भोजन बंद, फिलहाल बच्चों को मिलेगा राशन
X

भोपाल.नोवेल कोरोना वायरस से बचाव के लिए मध्य प्रदेश में फिलहाल स्कूलों में मध्यान्ह भोजन बंद कर दिया गया है. पके हुए खाने के बजाए अब बच्चों को कच्चा अनाज दिया जाएगा। अगले आदेश तक सरकार ने ये व्यवस्था की है कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रदेश सरकार ने ये बड़ा फैसला किया है। इसमें मार्च और अप्रैल के मध्यान्ह भोजन में पके हुए के बजाए कच्चा अनाज बच्चों को दिया जाएगा। खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के प्रावधानों के तहत मार्च के 11 दिन और अप्रैल के 22 मिलाकर कुल 33 शैक्षणिक दिन के हिसाब से बच्चों के कोटे का मध्यान्ह भोजन दिया जाएगा। इसमें किसी का कोटा काटा नहीं जाएगा, बल्कि स्कूलों में दर्ज शत-प्रतिशत छात्र छात्राओं को ये राशन बंटेगा. प्राथमिक शाला में दर्ज प्रति छात्र छात्राओं को 3300 ग्राम और माध्यमिक शाला के छात्र.छात्राओं को 4950 ग्राम राशन दिया जाएगा। ये राशन स्व-सहायता समूहों, रसोइयों, ग्राम पंचायतों और शाला प्रबंधन समितियों के ज़रिए दिया जाएगा। प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव और रोकथाम की जानकारी देने का जिम्मा अधिकारियों को सौंपा गया है। आयुक्त स्वास्थ्य प्रतीक हजेला ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। इसमें जिला-स्तर पर दवा, खाने-पीने का सामान और उपकरणों की उपलब्धता की जानकारी देने की ज़िम्मदारी ज़िला अधिकारियों को दी गयी है।

Next Story
Share it