Top
undefined

किसानों को बड़ी राहत, तुलावटी के बाद अब हम्माली भी नहीं लेगी राज्य सरकार

सरकार ने किसानों से तुलावटी नहीं लेने का फैसला किया था। अब कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि रबी उपार्जन कार्य में किसानों से मण्डियों में हम्माली और तुलावटी की राशि नहीं ली जाएगी।

किसानों को बड़ी राहत, तुलावटी के बाद अब हम्माली भी नहीं लेगी राज्य सरकार
X

भोपाल, मध्यप्रदेश में कोरोना संकट के बीच शिवराज सिंह चौहान सरकार ने एक और बड़ा फैसला लेते हुए किसानों को बड़ी राहत दी है। दो दिन पहले ही कृषि मंत्री कमल पटेल ने किसानों से तुलावटी नहीं लेने की घोषणा की थी। अब राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि हम्माली की राशि भी किसानों से नहीं ली जाएगी। इसकी व्यवस्था सरकार की तरफ से की जाएगी। यह जानकारी कृषि मंत्री कमल पटेल ने रविवार को मीडिया को जारी अपने बयान में दी है। दरअसल, प्रदेश में इन दिनों निर्धारित उपार्जन केन्द्र पर कोरोना संकट से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए समर्थन मूल्य पर रबी सीजन की फसलों की खरीदी चल रही है। ऐसे में किसानों को सरकार लगातार राहत देती जा रही है। सरकार ने इस संकट के समय में बीते शुक्रवार को सरकार ने किसानों से तुलावटी नहीं लेने का फैसला किया था। अब कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि रबी उपार्जन कार्य में किसानों से मण्डियों में हम्माली और तुलावटी की राशि नहीं ली जाएगी। वर्तमान में विभिन्न मण्डियों में हम्माली और तुलावटी की पृथक-पृथक दरें निर्धारित हैं। इन्हें एकीकृत करने पर सरकार विचार कर रही है। कृषि मंत्री ने बताया कि प्रदेश में किसानों को लाभान्वित करने के लिये समन्वित प्रयास किये जायेंगे। रबी उपार्जन के अंतर्गत मण्डी में सौदा-पत्रक के जरिये भी किसान व्यापारियों को सीधे अपनी उपज बेच सकेंगे। सरकार किसानों को बीमित राशि का शत-प्रतिशत भुगतान भी कराएगी। पिछली सरकार द्वारा वर्ष 2018 की रबी और खरीफ फसलों की बीमा राशि के राज्यांश का भुगतान नहीं किये जाने से किसानों को बीमा का क्लेम नहीं मिल पाया। अब राज्य सरकार द्वारा खरीफ का राज्यांश 1695 करोड़ रुपये और रबी का राज्यांश 486 करोड़ रुपये यानी कुल राशि 2181 करोड़ रुपये की राशि जमा करा दी गई है। इसके अलावा सरकार सूरजधारा योजना और अन्नपूर्णा योजना के तहत किसानों को उन्नत बीज उपलब्ध कराने पर भी विचार कर रही है।

Next Story
Share it