Top
undefined

भोपाल में कैदियों के आर्केस्ट्रा ग्रुप ने बनाया कोरोना गीत और जेल में किया परफॉर्म

भोपाल सेंट्रल जेल में कैदियों ने कोरोना को लेकर लोगों को जागरूक करने के लिए एक गाना बनाया है। कैदियों के आर्केस्ट्रा ग्रुप ने इसे गाया भी है और इसे जेल के अंदर परफॉर्म भी किया है।

भोपाल में कैदियों के आर्केस्ट्रा ग्रुप ने बनाया कोरोना गीत और जेल में किया परफॉर्म
X

भोपाल। मध्य प्रदेश की सड़कों पर पुलिस अधिकारी कर्मचारियों के गाने तो सुने ही होंगे। लेकिन अब हम बात उस चार दीवारी के अंदर रहने वाले कैदियों की बात कर रहे हैं, जिन्होंने खुद का कोरोना सॉन्ग तैयार किया। जेल में कैदियों ने इस गाने को बनाया, कंपोज किया, गाया और रिकॉर्ड भी किया। कैदियों के आर्केस्ट्रा ग्रुप ने इस गाने को तैयार किया है। इस सॉन्ग के जरिए जनता को कोरोना से बचाओ और जागरूक करने की कोशिश की गई है। इस आर्केस्ट्रा में हत्या जैसे मामले में सजा काट रहे कैदी सदस्य हैं, जो अब अपनी आवाज औऱ म्यूजिक से सबका दिल जीत लेते है। भोपाल सेंट्रल जेल में कैदियों का एक आर्केस्ट्रा ग्रुप तैयार किया गया है। इस आर्केस्ट्रा ग्रुप में उन कैदियों को शामिल किया गया है, जिनकी रुचि म्यूजिक में है। इस ग्रुप में करीब 10 कैदी हैं, जो जेल के अंदर होने वाली गतिविधियों में आर्केस्ट्रा का संचालन करते हैं। जेल प्रबंधन के द्वारा इन कैदियों को बकायदा ट्रेनिंग दी गई है। अपनी अपनी रूचि के अनुसार कैदी आर्केस्ट्रा में अपनी भूमिका निभाते हैं।

ये है कैदियों का कोरोना सॉन्ग

जेल के अंदर बनाए गए आर्केस्ट्रा ग्रुप का नाम अभिनव बंदी रखा गया है। आर्केस्ट्रा ग्रुप के सदस्यों ने जनता को जागरूक करने के लिए इस सॉन्ग को सबसे पहले लिखा गया। कैदियों ने जेल प्रबंधन को लिखे हुए गीत को बताया। इसके बाद जेल प्रबंधन की परमिशन मिलने के पर आर्केस्ट्रा ने इस गाने को कंपोज किया, इसमें म्यूजिक दिया, धुन बनाई और पूरी तरीके से तैयार करने के बाद इसे रिकॉर्ड भी किया। इस गाने को तैयार करने के पीछे कैदियों का मकसद कोरोना महामारी को लेकर जेल के अंदर ही नहीं बल्कि जेल के बाहर भी जनता को जागरूक करना है। कोरोना सॉन्ग के बोल हैं- 'कोरोना को भगाना है।।।देश को बचाना है।।।प्यारा है देश हमारा, देशवासियों को बचाना है।।।' इस गाने में कोरोना से बचाव के तरीके और सोशल डिस्टेंस के पालन को लेकर जागरूक किया गया है।

जेल प्रबंधन ने की पूरी मदद

जेल अधीक्षक दिनेश नरगावे ने बताया कि कैदियों ने खुद का गाना तैयार किया है। यह गाना कोरोना को लेकर तैयार किया गया है। इस गाने में जेल प्रबंधन ने पूरी मदद और सहायता कैदियों को मुहैया कराई। अब इस गाने को मीडिया और सोशल मीडिया के जरिए जनता तक पहुंचाने का काम किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जेल के अंदर कैदियों का एक आर्केस्ट्रा काम करता है। जेल में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम में इसी आर्केस्ट्रा का इस्तेमाल किया जाता है। कैदियों ने मिलकर अच्छा गाना तैयार किया है। यह गाना कैदियों ने खुद लिखा है और इसके बाद इस गाने में म्यूजिक से लेकर उसे रिकॉर्ड करने तक का पूरा काम आर्केस्ट्रा के कैदियों के द्वारा ही किया गया है। गाना बहुत अच्छी तरीके से तैयार किया गया है। अब इसे जनता को जागरूक करने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

Next Story
Share it