Top
undefined

कोरोना से जूझ रही पुलिस के सामने अब लू का संकट,पुलिस मुख्यालय ने बताए देसी नुस्ख़े

पुलिस मुख्यालय ने मौसम विभाग का हवाला देते हुए फील्ड पर तैनात स्टाफ के लिए गाइड लाइन जारी की है। इसमें सभी आईजी,एडीजी और एसपी से कहा गया है कि वो गाइडलाइन का पालन कराएं

कोरोना से जूझ रही पुलिस के सामने अब लू का संकट,पुलिस मुख्यालय ने बताए देसी नुस्ख़े
X

भोपाल। कोरोना संकट में ड्यूटी पर तैनात पुलिस स्टाफ के सामने अब नया संकट है। उसे कोरोना से बचाव के साथ अब लू से निपटने के भी इंतज़ाम करना होंगे। अपने स्टाफ की सेहत के लिए फिक्रमंद पुलिस मुख्यालय (श्चद्धह्न) ने फील्ड पर तैनात साथियों के लिए गाइड लाइन जारी की है। अप्रैल खत्म होने को है और मई का पारा चढऩे के लिए तैयार है। ऐसे कठिन दौर में जब पूरा प्रदेश कोरोना संक्रमण की चपेट में है पुलिस वालों के लिए दोहरी समस्या खड़ी है। वो इस चिलचिलाती गर्मी और आग बरसाती धूप में लगातार फील्ड में तैनात हैं। हालात से पुलिस मुख्यालय भी चिंता में है। उसने मौसम विभाग का हवाला देते हुए फील्ड पर तैनात स्टाफ के लिए गाइड लाइन जारी की है। इसमें सभी आईजी,एडीजी और एसपी से कहा गया है कि वो गाइडलाइन का पालन कराएं। फील्ड पर तैनात पुलिसकर्मियों को तमाम सुविधाएं दी जाएं। पुलिस मुख्यालय का कहना है मई और जून में गर्म हवाओं के कारण पुलिस वालों को नुकसान हो सकता है, इसलिए एहतियात बेहद ज़रूरी है।

ये है क्क॥क्त की गाइडलाइन

पुलिस मुख्यालय ने 6 बिंदुओं की गाइडलाइन तैयार की है। इस में सड़क पर ड्यूटी कर रहे पुलिस वालों को सिर पर टोपी, कपड़े से ढंक कर और मास्क लगान अनिवार्य है। साथ ही समय-समय पर पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहें। ओआरएस घोल और नींबू पानी साथ रखें। अपने पास हाइड्रेट भी रखें। इसके अलावा ड्यूटी के दौरान चाय कॉफी सॉफ्ट ड्रिंक बिलकुल ना पीएं। लू के साथ कोरोना से भी बचना ज़रूरी है इसलिए साबुन और पानी से बार-बार हाथ धोते रहें।सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें। बिना हाथ धोए चेहरे को स्पर्श न छुएं। साथ ही चैकिंग के दौरान वाहन चालक से दूरी बनाए रखें।

जिलों में इंतज़ाम

भोपाल में चैकिंग प्वाइंट या सड़क पर तैनात पुलिस जवानों के लिए टेंट की व्यवस्था की गई है। हेड क्वार्टर एसपी धर्मवीर यादव ने बताया कि शहर में जगह-जगह पर तैनात पुलिस कर्मियों को छांव देने के लिए टेंट लगाए गए हैं। वहां खड़े होकर अपनी ड्यूटी कर सकते हैं। टेंट के अंदर पीने का पानी और जरूरी सामान भी मुहैया कराया गया है। ड्यूटी करने में किसी को दिक्कत न हो इसका ध्यान भी रखा जा रहा है।

Next Story
Share it