Top
undefined

लॉक डाउन के कारण दूसरे प्रदेशों में फंसे एमपी के हज़ारों मज़दूर घर लौटे

एमपी में प्रवेश करते ही सीमा पर स्थित जि़ला मुख्यालयों में इनके चैकअप और खान-पान की व्यवस्था की गयी थी।यहां से इन्हें इनके घरों के लिए रवाना कर दिया गया।

लॉक डाउन  के कारण दूसरे प्रदेशों में फंसे एमपी के हज़ारों मज़दूर घर लौटे
X

भोपाल। लॉक डाउन के कारण दूसरे प्रदेशों में फंसे मध्यप्रदेश के मज़दूरों का घर लौटने का सिलसिला जारी है। मंगलवार को दिन भर इनके आने का सिलसिला चलता रहा। इनकी संख्या हज़ारों में है। ये मज़दूर राजस्थान,गुजरात और हरियाणा में फंसे थे। सरकार ने इनके घर लौटने का इंतज़ाम किया है। एमपी में प्रवेश करते ही सीमा पर स्थित जि़ला मुख्यालयों में इनके चैकअप और खान-पान की व्यवस्था की गयी थी।यहां से इन्हें इनके घरों के लिए रवाना कर दिया गया।

जैसलमेर से भोपाल पहुंचे 400 मज़दूर

भोपाल और आसपास के इलाकों के करीब 400 मज़दूर राजस्थान के जैसलमेर में फंसे थे। सरकार की मदद से ये सभी मंगलवार को भोपाल लौट आए। इन्हें गांधी नगर थाना क्षेत्र के 4 स्कूल कॉलेजों में ठहराया गया। ऑलसेंट्स कॉलेज, फादर एगनल स्कूल, होली फेमिली सीनियर सेकेंडरी स्कूल शांति नगर और सागर पब्लिक स्कूल गांधी नगर में मजदूरों के ठहरने की व्यवस्था की गयी थी।यहां इनके चैकअप और खाने की व्यवस्था की गयी थी।

उज्जैन के 800 मज़दूर लौटे

उज्जैन के करीब 800 मज़दूर मंगलवार को घर लौट आए। ये राजस्थान के अलग अलग शहरों में मजदूरी करने गए थे। लॉक डाउन में फंसने के बाद उज्जैन सांसद अनिल फिऱोजिया ने प्रशासन के सहयोग से 7 बसों के माध्यम से इन्हें निकलवाया।

आगर मालवा में लगा कैंप

आगर मालवा के भी करीब 250 मज़दूर राजस्थान में फंसे थे। उन्हें भी 7 बसों के ज़रिए वापस बुलाया गया। सीमा पर इनके लिए कैंप बनाए गए थे जहां सबका मेडिकल चैकअप किया गया। जांच के बाद सबको खाना खिलाया गया। कलेक्टर संजय कुमार सहित आला अधिकारी मौके पर मौजूद रहे और व्यवस्था देखी। यहां से इन मज़दूरों को उनके घर भेजा गया।

नीमच में दोनों ओर से भीड़

नीमच में एमपी-राजस्थान सीमा पर नयागांव बॉर्डर पर करीब 5 हज़ार मज़दूर पहुंचे। इनमें से साढ़े तीन हज़ार मज़दूर राजस्थान से मध्य प्रदेश आने वाले थे और डेढ़ हज़ार मज़दूर राजस्थान के थे जो मध्य प्रदेश में फंसे हुए थे। दोनों राज्यों की सीमा पर दोनों तरफ से इनके लिए करीब 200 बसें लगायी गयी थीं।

हरियाणा से 1500 की वापसी

हरियाणा में फंसे 1500 मज़दूरों की भी घर वापसी हो रही है। इन्हें लेने 45 बसें भेजी गयी थीं। ये मज़दूर हरियाणा के अलग-अलग शहरों में काम कर रहे थे। इनमें से ज़्यादातर निर्माण कार्य करने वाले ठेका मज़दूर है, जो लॉक डाउन के कारण वहीं फंसे रह गए थे।

Next Story
Share it