Top
undefined

स्टील आर्च ब्रिज पर नए वर्ष से शुरु हो सकेगा आवागमन

स्टील आर्च ब्रिज पर नए वर्ष से शुरु हो सकेगा आवागमन
X

स्वदेश संवाददाता। भोपाल राजधानी मुख्यालय पर गिन्नौरी से कमला पार्क तक छोटे तालाब में 39.8 करोड़ रूपये की लागत से निर्मित किए जा रहे स्टील आर्चब्रिज पर नए वर्ष में आवागमन शुरु होने की संभावनाएं व्यक्त की जा रहीं हैं। हालांकि ब्रिज का निर्माण 95 फीसदी पूर्ण हो चुका है। इस ब्रिज की आधार शिला तात्कालीन एवं वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मई 2016 में रखी थी। वर्तमान में कोरोना काल के चलते ब्रिज का निर्माण दिसंबर-2020 के अंत तक पूर्ण कर नए वर्ष 2021 में इस ब्रिज पर आवागमन शुरु करने की बात की जा रही है।

शेष रुका हुआ निर्माण शुरु

ब्रिज पर इंजीनियरिंग का कार्य चाइना की कंपनी ओबीएम कंपनी के द्वारा किया गया है। हालांकि केबिल डालने के लिए भी चाइना के इंजीनियरों को मध्यप्रदेश आना था, परन्तु कोरोना के चलते और चाइना का विरोध देखते हुए केबिल का कार्य भारतीय इंजीनियरों से ही करवा लिया गया है। स्टील आर्च ब्रिज का निर्माण स्मार्ट सिटी परियोजना के इंजीनियर की देखरेख में स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत अहमदाबाद (गुजरात) की कंपनी मेसर्स राजकमल बिल्डर्स इन्फ्रास्टक्चर प्राइवेट लिमिटेड की इंजीनियर टीम के द्वारा आईआईटी मुम्बई से तैयार करवाई गई डिजाईन के आधार पर आर्च ब्रिज का शेष रुका हुआ निर्माण शुरु हो गया है।

एक नजर में ब्रिज निर्माण

- देश का पहला 150 मीटर स्पान का बकेट हैंडल शेप का है स्टील आर्च ब्रिज।

- ब्रिज की लंबाई 360 मीटर, 40 मीटर ऊंचा और 10 मीटर होगा चौड़ा।

-150 मीटर लंबा तालाब के ऊपर तैरता हुआ तैयार किया गया ब्रिज।

-ब्रिज में 102 लंबे और क्रास गर्डर का किया गया उपयोग।

-ब्रिज पर टू-वे होगा यातायात, भारी यातायात पूरी तरह से होगा प्रतिबंधित।

- ब्रिज पर दो-दो मीटर फुटपाथ की होगी चौड़ाई।

-स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लि. (सेल) भिलाई से क्रय की गई 850 मैट्रिक टन स्टील।

-ब्रिज पर होगी आधुनिक स्मार्ट लाईटिंग, स्मार्ट सेंसर के द्वारा समय चक्रानुसार होगा नियंत्रित।

इन्होने बताया

मध्यप्रदेश में देश का पहला स्टील आर्च ब्रिज का निर्माण छोटे तालाब पर दिसंबर-2020 तक पूर्ण कराने का लक्ष्य है। केबल डालने का शेष कार्य करवाया जा रहा है। ब्रिज पर पाथ-वे और ब्रिज को जोडऩे वाले एप्रोच रोड का निर्माण भी करवाया जा रहा है।

-ओ. पी. भारद्वाज, इंजीनियर,

स्मार्ट सिटी परियोजना, भोपाल

Next Story
Share it