Top
undefined

यांत्रिकी विभाग के कोरोना योद्धाओं की कर्तव्यनिष्ठा को वंदन

लॉकडाउन के दौरान डीआरएम के निर्देशन में किए गए चुनौतीपूर्ण उत्कृष्ट कार्य

यांत्रिकी विभाग के कोरोना योद्धाओं की कर्तव्यनिष्ठा को वंदन
X

भोपाल, कोविड-19 के संक्रमणकाल में लॉकडाउन के दौरान मण्डल रेल प्रबंधक उदय बोरवणकर के निर्देशन एवं वरिष्ठ मण्डल यांत्रिक इंजीनियर (समन्वय) के मार्गदर्शन में यांत्रिक विभाग द्वारा कोरोना वायरस के प्रभाव से बचाव हेतु किये गये अनेकों कार्यों का कर्तव्यनिष्ठा के साथ बखूबी निवर्हन किया गया। भोपाल मण्डल के यांत्रिक विभाग के सभी डिपों में हबीबगंज, इटारसी, भोपाल, बीना और गुना में और डयूटी सफाई कर्मचारियों को चलित गाडिय़ों में कोरोना संक्रमित यात्रियों से बचाव के लिये फुल बॉडी डे्रस उपलब्ध कराई गई। इसके साथ रेल कर्मियों को 8900 फेस मास्क बनाकर वितरित किया, सैनेटाइजेशन के लिये 30 नग बैकपैक स्प्रे पंप उपलब्ध कराये गये, कर्मचारियों के लिये पर्याप्त मात्रा में हेंड सैनेटाइजर, तरल सोप एवं हाइपो क्लोरेट वितरित किये गये, जागरूक करने के लिये पोस्टर लगाये गए, कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु क्या करना चाहिए और क्या नहीं, कर्मचारियों के डयूटी पर आते समय थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था अनिवार्य की गई।

गंभीर चुनौतियों का किया सामना

कोरोना के संक्रमणकाल कर्मचारियों में इसके प्रसार को रोकने की गंभीर चुनौती थी, कर्मियों के कार्यस्थलों पर इससे निपटने के लिये यांत्रिक विभाग ने 44 पैडल चलित हैंडस फ्री वॉशबेसिन का निर्माण किया। सभी विभागों सहित कोचिंग डिपों, वैगन डिपो, में लगाये गये, जिससे जैसे रेलकर्मी बिना नल और लिक्वड सोप को छुये बिना पैरो की मदद से अपने हाथ धो सकें, इससे कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में मदद मिली। हबीबगंज कोचिंग डिपो के वाटर कूलरों के नलों को कर्मचारियों के उपयोग के लिये हैंण्ड फ्री किया गया। उपयोग किये गये फेसमास्क तथा हेंड ग्लब्स के निपटान हेतु डस्टबिन लगाये गये। सभी आवश्यक स्थानों पर 24 नग गैर ऑपरेटेड ब्रेकेट विकसित किये गये ताकि दरवाजा खोलने के लिये डोर हैण्डिल को न छूना पड़े।

क्वारंटीन सेंटर बनाया

कोरोना वायरस के प्रभाव से निपटने के लिये बेसिक ट्रेनिंग सेंटर के प्रशिक्षु हॉस्टल, इटारसी को 6 बेड की सुविधा के साथ क्वारंटीन सेंटर में परिवर्तित किया गया, साबुन, सैनिटाइजर, कूड़ेदान, टॉवल्स, तकिया कवर मच्छरों से बचाव हेतु मच्छरदानी आदि की सम्पूर्ण व्यवस्था की गई। ये सामग्री यांत्रिक विभाग द्वारा उपलब्ध कराई गई है और उसका प्रबंधन नियमित रूप से यांत्रिक विभाग द्वारा किया गया। हबीबगंज तथा भोपाल में श्रमिक विशेष के 8 रैक भोपाल मण्डल द्वारा तैयार किये गये। लॉकडाउन की अवधि में भोपाल मण्डल के वैगन निरीक्षक तथा कैरिज एव वैगन स्टॉफ के द्वारा 7 हॉट एक्सल मामले अटेंड किये गये। नए फुट ओवर ब्रिज का निर्माण होने के उपरांत लॉकडाउन के दौरान 141 टन की हाइड्रोलिक क्रेन के द्वारा बीना तथा होशंगाबाद स्टेशन पर पुराने फुट ओवर ब्रिज को डिस्मेंटल किया गया।

Next Story
Share it