Top
undefined

दिव्यांगों के लिए संभागीय मुख्यालयों पर बनेंगे फिजियोथैरेपी सेंटर: शिवराज

दिव्यांगों के लिए संभागीय मुख्यालयों पर बनेंगे फिजियोथैरेपी सेंटर: शिवराज
X

भोपाल । प्रदेश में दिव्यांगजनों को फिजियोथैरेपी की सुविधा उपलब्ध कराने संभागीय मुख्यालयों पर यह सेंटर्स स्थापित किए जाएंगे। वहीं जिलास्तरीय दिव्यांग पुनर्वास केंद्रों को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जाएगा। यही नहीं वृद्धाश्रमों में वैवाहिक वर्षगांठ व जन्मदिन जैसे आयोजन भी महत्वपूर्ण व्यक्तियों की उपस्थिति में होंगे। जबकि नशामुक्ति के लिए व्यापक जनजागृति अभियान चलाया जाएगा।

उक्ताशय के निर्देश गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग की समीक्षा बैठक में दिए। मुख्यमंत्री ने कहा,कि नशामुक्ति के लिये व्यापक जनजागृति अभियान चलाया जाए। इस अभियान में समाजसेवियों, स्वयंसेवी संस्थाओं और जनप्रतिनिधियों का सक्रिय सहयोग लिया जाए। उन्होंने कहा कि स्कूल शुरू होने पर यह अभियान चलाया जाये। डाक्यूमेन्ट्री फिल्म निर्माण कर उसे व्यापक स्तर पर प्रदर्शित किया जाये। इस अभियान में देश और प्रदेश के लोकप्रिय व्यक्तियों को भी जोड़ा जाये।

संभागीय मुख्यालयों पर बनाएं फिजियाथैरेपी सेंटर

उन्होंने जिलास्तर पर संचालित दिव्यांग पुनर्वास केंद्रों को सशक्त बनाने व इन्हें सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि दिव्यांगो और वरिष्ठजनों के लिये प्रदेश के 10 संभागीय मुख्यालयों के जिला चिकित्सालयों में फिजियोथेरेपी सेंटर्स विकसित किये जायें। उन्होंने कहा कि वृद्धों और दिव्यांगों के लिये संचालित हो रहे सभी केन्द्रों में समाजसेवी संस्थाओं और व्यक्तियों का सक्रिय सहयोग लिया जाये। समाज के महत्वपूर्ण व्यक्ति वृद्धाश्रम जाकर शादी की वर्षगांठ, जन्मदिन मनाने जैसे कार्यक्रम करें। ऐसे आयोजनों के लिये लोगों को प्रेरित किया जाये।

निजी क्षेत्रों में दिव्यांगों को रोजगार दिलाने करें प्रयास

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री प्रेमसिंह पटेल के प्रस्तावों पर सहमति व्यक्त करते हुए कहा कि निजी क्षेत्रों में दिव्यांगों को रोजगार दिलाने के प्रयास किये जायें। दिव्यांग बेरोजगारों को प्रशिक्षण देकर रोजगार में स्थापित किया जाये। दिव्यांगों द्वारा निर्मित सामग्रियों के विक्रय के लिये स्थान और अवसर उपलब्ध कराने के प्रयास हों। बैठक में बताया गया कि दिव्यांगजनों के लिये प्रदेश में 5 लाख 45 हजार यू.डी.आई.डी. कार्ड बनाये गये हैं। इस कार्य में प्रदेश का देश में द्वितीय स्थान है। सभी जिलों में दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों को कोरोना से बचने के उपायों की जानकारी ब्रेल लिपि में उपलब्ध करायी गयी है।

वृद्धजनों के लिए शुरु होगी विशेष हेल्पलाइन

बैठक में बताया गया,कि स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से कोरोना काल में सभी 76 वृद्धाश्रमों का निरंतर संचालन किया गया। सभी आवासीय वृद्धजन कोरोना संक्रमण से मुक्त रहे। हेल्पऐज इंडिया के साथ अनुबंध किया गया है जिसके अंतर्गत एक जनवरी 2021 से वृद्धजनों के लिये राज्य स्तरीय विशेष हेल्पलाईन का आरंभ की जायेगी। इसके माध्यम से वृद्धजनों द्वारा दूरभाष पर सूचना देने पर पैथालॉजी जाँच तथा चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी।

मोबाइल एप पर मिलेंगी विशेष सेवाएं

दिव्यांगजनों और वरिष्ठजनों के लिये मोबाइल एप विकसित कर उपलब्ध कराया जाएगा जिससे उन्हें महत्वपूर्ण सेवाएं मिलेंगी। भोपाल में पेड ओल्ड ऐज होम भवन निर्माणाधीन है। जिसे समय-सीमा में पूरा किया जाएगा। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में 50 सीटर 9 वृद्धाश्रम भवनों का निर्माण चल रहा है जिन्हें शीघ्र पूर्ण कर लिया जाएगा। भोपाल के 47 तथा इंदौर के 50 शासकीय भवनों में दिव्यांगजनों के लिये आवश्यक सुविधायें उपलब्ध करायी जायेंगी।

Next Story
Share it