Top
undefined

मध्यप्रदेश में जल्द बढ़ सकता है यात्री बसों का किराया

मध्यप्रदेश में जल्द बढ़ सकता है यात्री बसों का किराया
X

भोपालबस मालिकों की लंबे समय से चल रही यात्री किराया बढ़ाने की मांग जल्द ही पूरी हो सकती है। किराया बढऩे का सीधा असर यात्रियों की जेब पर होगा। बस ट्रांसपोट्र्स ने करीब 50 फीसदी किराया बढ़ाने की मांग की है। यदि ऐसा हुआ तो राजधानी भोपाल से 200 से 250 किलोमीटर वाले शहरों का कम से कम 100 रुपए तक किराया बढ़ सकता है। आपको बता दें कि बस ट्रांसपोट्र्स लंबे समय से यात्री किराया बढ़ाने की मांग कर रहे थे, लेकिन कोरोना के चलते लॉकडाउन होने के बाद और आम आदमी की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी थी। अब हालात धीरे-धीरे सामान्य होने के चलते बस ट्रांसपोट्र्स ने फिर से मांग उठाई है।

मप्र प्राइम रूट बस एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविंद शर्मा ने बताया कि बस ऑपरेटर्स की लंबे समय से किराया बढ़ाने की मांग चल रही थी। 2018 के बाद किराया भी नहीं बढ़ाया गया। 2018 में डीजल का भाव 67 रुपए लीटर था और आज 82 रुपए लीटर है। पुराने किराए के साथ बस चलाना संभव नहीं हो पाएगा। अध्यक्ष गोविंद शर्मा ने बताया कि बस चलाने का खर्च 55 रुपए प्रति किलोमीटर के करीब आता है। वहीं कोरोना के बाद करीब 30 फीसदी तक यात्रियों में कमी आई है और 100 फीसदी बसों का संचलान नहीं हो रहा है। इससे बस ऑपरेटर्स को नुकसान हो रहा है।

किराया बोर्ड की बैठक में तय

अध्यक्ष गोविंद शर्मा ने बताया कि किराया बोर्ड की बैठक में यात्री किराया बढ़ाने पर सहमति बन गई है। अब एक दो दिन में हमारा यूनियन सीएम के समक्ष अपनी मांग रखेगा, सरकार से बात के बाद अंतिम फैसला लिया जाएगा। अध्यक्ष गोविंद शर्मा ने बताया कि गोविंद सिंह राजपूत के फिर से कैबिनेट मंत्री बनने और परिवहन मंत्री होने की संभावना के चलते उनसे भी मुलाकात कर अपनी मांग रखेंगे।

1 रुपए 30 पैसे प्रति किलोमीटर बढ़ सकता है किराया

बस ऑपरेटर्स ने यात्री किराया करीब डेढ़ रुपए प्रति किलोमीटर बढ़ाने की मांग की थी, लेकिन उन्हें लगता है कि 1 रुपए 30 पैसे प्रति किलोमीटर पर सहमति बन सकती है। लिहाजा 200 से 250 किलोमीटर के सफर के किराए में कम से कम 100 रुपए तक बढ़ोतरी हो सकती है।

Next Story
Share it