Top
undefined

पुलिस रोज 10 हजार लोगों का खाना खिला रही है

पीटीएस उज्जैन को क्वारेंटाइन सेंटर बनाने के लिए हॉस्टल के साथ-साथ पूरे कैंपस की साफ-सफाई कराई गई है।

पुलिस रोज 10 हजार लोगों का खाना खिला रही है
X

भोपाल। मध्य प्रदेश के जिन कैंपस में कभी पुलिस वालों की कदम ताल की आवाज़ गूंजती थी वहां अब मदद के लिए निर्देश दिए जा रहे हैं।ये पुलिस ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट हैं जिनके दरवाजे मध्य प्रदेश पुलिस ने लॉक डाउन में घर से दूर रह गए ज़रूरतमंदों के लिए खोल दिए हैं। अब यहां चौबीसों घंटे पुलिस का स्टाफ इन लोगों की मदद में जुटा हुआ है। पुलिस के इन इंस्टीट्यूट्स में पुलिसवालों की कठिन ट्रेनिंग होती है। पुलिस को हर हालात से निपटने के लिए यहां सख्त निर्देश दिए जाते हैं। माहौल अनुशासित रहता है। लेकिन अब इन्हीं कैंपस में रह-रहकर यह आवाज सुनाई दे रही है, जल्दी कीजिए लोग भूखे हैं और हमारा इंतजार कर रहे हैं।

रोज 10 हज़ार जरूररतमंदों के लिए खाना

इंदौर स्थित मध्यप्रदेश पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज की मैस में रोज दस हजार लोगों के लिए नि:शुल्क भोजन तैयार किया जा रहा है। यह खाना उन लोगों को दिया जा रहा है जो रोज कमाते-खाते थे। लेकिन लॉकडाउन की वजह से काम धंधा बंद हो गया है और ये असहाय गए हैं। खाना बनाने के लिए जिला प्रशासन ने रियायती दर पर राशन मुहैया करा रहा है और स्वैच्छिक दानदाता अपनी श्रद्धा के अनुसार दान कर रहे हैं। पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज के कर्मचारी दिन-रात मेहनत कर पूरी साफ-सफाई और अच्ची क्वालिटी के साथ जरूरतमंदों के लिए रसोई तैयार कर रहे हैं।

पुलिस को सलाम

जरूरतमंदों तक खाना पहुंचा रहे पुलिस जवानों का कहना है हफ्तों से अपने परिवार से दूर रहने की तकलीफ हम उस वक्त भूल जाते हैं, जब हम इन असहाय लोगों को हमारी पहुंचायी रोटी का निवाला मुंह में डालते देखते हैं। जिला प्रशासन ने इंदौर में आंकलन कराया था कि शहर में लगभग एक लाख ऐसे लोग हैं, जिनका गुजारा रोज की कमाई से होता है।लॉकडाउन की वजह से इनके सामने रोटी का संकट खड़ा हो गया है। जिला प्रशासन ने इन लोगों को खाना मुहैया कराने के लिए समाजसेवियों और सरकारी और निजी संस्थाओं से आगे आने की अपील की थी। सबसे पहले पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज ने अपने हाथ तत्परता से आगे बढ़ाए।यह संस्थान अब हर दिन 10 हजार लोगों को भोजन करा रहा है।

क्वारेंटीन सेंटर भी बनाया

इस तरह उज्जैन में मक्सी रोड, पाटपाला स्थित पुलिस प्रशिक्षण शाला को क्वारेंटीन सेंटर बनाया गया है। पीटीएस उज्जैन को क्वारेंटाइन सेंटर बनाने के लिए हॉस्टल के साथ-साथ पूरे कैंपस की साफ-सफाई कराई गई है। साथ ही हॉस्टल और सरकारी इमारतों के हर कमरे, टॉयलेट, बाथरूम को नगर निगम उज्जैन के ज़रिए सेनेटाइज कराया गया है। पीटीएस परिसर के मुख्य प्रवेश द्वार और क्वार्टर गार्ड पर हैंडवॉश, सेनेटाइजर और टिश्यू पेपर रखवाए गए हैं।

Next Story
Share it